दीपका (नईदुनिया न्यूज)। इंडस पब्लिक स्कूल में स्वच्छता विषय पर चित्रकला, निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। एसईसीएल के तत्वाधान में आयोजित इस प्रतियोगिता में कक्षा तीसरी से पांचवीं तक में प्रथम-गोल्डी अग्रवाल, द्वितीय-ख्याति यादव एवं तृतीय-विरेश रत्नाकर रहे। कक्षा छठवीं से आठवीं तक चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम-अनवी सिंह, द्वितीय-संगम सिंहाग एवं तृतीय-अनन्या ढोके रहे तथा निबंध प्रतियोगिता में प्रथम-वंशिका सिंह, द्वितीय-पायल सहारन तथा तृतीय स्थान पर ग्रीतिका वत्स रहे ।

चित्रकला प्रतियोगिता में कक्षा तीसरी से पांचवीं में प्रथम-निधि वर्मा, द्वितीय-जिज्ञासा खांडे एवं तृतीय-काविश सिदार रहे। कक्षा छठवीं से आठवीं चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम-ग्रीतिका वत्स, द्वितीय-वृध्दि राठौर एवं तृतीय-पल्लवी उइके रहे तथा निबंध प्रतियोगिता में प्रथम-अनवी सिंह, द्वितीय-अनन्या ढोके तथा तृतीय स्थान पर अनुष्का चंद्रा रहे। यह प्रतियोगिता शिक्षिका शैलजा राव एवं सोमा सरकार के दिशा निर्देशन में एसईसीएल दीपका व गेवरा के तत्वाधान में आयोजित की गई। इस अवसर पर विद्यालय के प्राचार्य डा. संजय गुप्ता ने कहा कि यदि होगी स्वच्छ धरा तो होगा जीवन खुशियों से भरा। स्वच्छता की शुरूआत हमे स्वयं क घर गली मोहल्ले से करनी चाहिए क्योंकि स्वच्छता यदि रहेगी तो बेशक हमारा शरीर भी स्वच्छ रहेगा और हमारा सामाजिक परिवेश भी स्वच्छ रहेगा। जिससे हमारा शारीरिक व मानसिक विकास भी समानांतर होगा और आने वाली पीढ़ी को हम एक नऐ भारत का स्वरूप प्रस्तूत करेगें। आस- पास के वातावरण, परिवेश को स्वच्छ रखने पर ही उसके संपर्क से हमारा शरीर स्वच्छ रहेगा और तभी हमारे स्वच्छ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का वास होगा। आज पूरा देश इस प्रयास में लगा हैं कि वो अपने नजदीकी पर्यावरण को स्वच्छ व निर्मल बना सके। स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करने नित नए तरीके अपनाए जाते हैं, कभी स्वच्छता दिवस कभी सप्ताह तो स्वच्छता पखवाड़ा? यह सब केवल उपलब्धि पाने तस्वीर खिंचाने के लिए नहीं होते वरन इनका उद्देश्य होता है लोगों को स्वच्छ रहने का गुण व स्वच्छता के फायदे बताना। एक स्वस्थ राष्ट्र बनाने के लिए एक वहां के नागरिकों का स्वस्थ होना आवश्यक हैं और भारत के नागरिक होने के नाते हमारा कर्तव्य है कि हम अपने भारत भूमि को स्वच्छ रखें तभी यह सुजला, सुफला मलयज शीतला रह पाएगी ।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close