Korba News: कोरबा। बालियां तैयार होने के कगार में आ रही फ़सलों में तनाछेदक और झुलसन का प्रकोप बढ़ने लगा है। किसानों को रोग निदान की समस्या से जूझना पड़ रहा। संक्रामक बीमारी होने से समय रहते निदान की जरूरत है। मौसमी कीट रोग का विस्तार होने से किसानों के लिए उपज में नुकसान उठाना पड़ेगा।

खेतों में लहलहाती धान की फसल पर बीमारियां पैर पसार रही है जिसे लेकर किसान काफी परेशान नजर आ रहे हैं। बीमारियों की जानकारी देने के लिए कृषि विभाग की आरईओ गांव नहीं पहुंच रहे हैं। ऐसे में किसानों को सही दवाओं की जानकारी नहीं मिल रही। समय पर निंदाई, रोपाई और बियासी जैसे काम किए जाने के बाद भी किसानों को फ़सल बीमारी से जूझना पड़ रहा है। कृषि विभाग की ओर से नियंत्रण के लिए बीमारी के लक्षण और दवा की जानकारी के लिए प्रचार प्रसार का अभाव है । बीते माह लगातार बारिश होने से खेतों में पानी भर गया था। फ़सल डूब गई थी जिसका असर धान के पत्तों पर बीमारी के तौर असर अब दिखने लगा है। किसानों के सहयोग के लिए शासन स्तर पर कृषि विस्तार अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। अधिकारी पदस्थापना स्थल पर रहने के बजाय शहर में रहकर आवागमन करते है। जरूरत के समय में किसानों को सहयोग नहीं मिल रहा। ऐसे में किसान दुकानदारों से ही सलाह लेकर दवा का चयन कर रहे हैं।

निश्शुल्क दवा प्रदान करने का है प्रावधान

खाद्य संरक्षण शाखा की ओर से फ़सल को बीमारी से बचाने के लिए 500 रूपये तक निश्शुल्क दवा प्रदान करने का प्रावधान है। इसके लिए किसानों को आरईओ से सलाह लेकर दवा की खरीदी करनी होती है और दवा का बिल कृषि विभाग में जमा करना होता है। जिसके आधार पर उन्हे राशि उनके खाते में प्रदान की जाती है। नियम के बारे में विभाग की ओर किसानों को जानकारी नहीं दिए जाने के कारण इसका लाभ नही ले पा रहे हैं।

पतला धान तैयार होने में माह भर की देरी

बारिश का साथ होने से इस बार खेतों में बेहतर फ़सल हुआ है। खेतों में आवश्यकता से अधिक पानी भराव के चलते बीामरी असरकारी साबित हो रहा है। ऐसे में कई किसान अनावश्यक पानी को खेत से निकालने लगे हैं। कृषि विज्ञान केंद्र के अधिकारी की माने तो मोटा धान में पखवाड़े भर में बालियां शुरु हो जाएगी। दूसरी ओर पतला धान को तैयार होने में अभी माह भर का समय लगेगा। मोटा धन में अधिकांशत: झुलसन का प्रकोप देखा जा रहा है वहीं पतला में तना छेदक संक्रमित होने लगा है।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local