कोरबा । केंद्रीय बोर्ड ने रद्द की गई दसवीं की परीक्षा के लिए विद्यार्थियों को मिलने वाले अंकों का निर्धारण करने की प्रक्रिया तय की है। इसमें कहा गया है कि शिक्षा सत्र में वर्ष भर ली गई विभिन्ना परीक्षाओं व मासिक टेस्ट में छात्र के प्रदर्शन के अनुसार अंक वितरित किया जाएगा। इसके लिए स्कूलों में आठ सदस्यों की टीम बनानी होगी, तो अपने छात्र के पिछले प्रदर्शन का मूल्यांकन कर अंक निर्धारित करेगी और उसके आधार पर दसवीं बोर्ड का परिणाम जारी होगा।

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा मंडल (सीबीएसई) ने कोरोना संक्रमण की बढ़ती मुश्किलों को देखते हुए दसवीं की बोर्ड परीक्षाएं इस वर्ष नहीं लिए जाने का निर्णय लिया व परीक्षा रद्द कर दी। अब इसी क्रम में इस कक्षा के विद्यार्थियों को दिए जाने वाले अंक और परीक्षा परिणाम को लेकर भी गाइडलाइन जारी किया है। सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक की ओर से जारी निर्देश के अनुसार विद्यालयों को सुनिश्चित करना होगा कि 10वीं बोर्ड परीक्षाओं में दिए अंक छात्रों को पिछले प्रदर्शन के अनुरूप हों। रिजल्ट को अंतिम रूप देने के लिए स्कूलों के प्राचार्य की अध्यक्षता में आठ सदस्यीय समिति का गठन करना होगा। मूल्यांकन में पक्षपातपूर्ण व्यवहार करने पर स्कूलों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने की भी चेतावनी दी गई है। कोरोना के नियंत्रण एवं रोकथाम का उद्देश्य रखते हुए और विद्यार्थियों को संक्रमण से दूर रखने के लिए इस वर्ष सीबीएसई ने दसवीं की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं को फिलहाल कुछ समय के लिए स्थगित कर दिया है।

इस तरह होगा स्कूल की टीम का स्ट्रक्चर

मूल्यांकन सुनिश्चित करने के लिए, स्कूलों को सात सदस्यों के साथ पांच मई तक स्कूल के प्राचार्य सहित एक परिणाम समिति बनाने के लिए कहा गया है। टीम में प्रत्येक स्कूली छात्र गणित, सामाजिक विज्ञान, विज्ञान और दो भाषाओं को शामिल करेगा। इसके अलावा, पड़ोसी स्कूल के दो शिक्षक भी होंगे जो बाहरी सदस्यों के रूप में काम करेंगे। मूल्यांकन को निष्पक्ष रखने के लिए, स्कूलों को निर्देश दिया गया है कि वे आवंटित अंकों के पीछे के तर्क को स्पष्ट रूप से परिभाषित करें। यह भी बताया गया है कि दसवीं कक्षा के परिणाम 20 जून को जारी किए जाएंगे।

ऐसे होगा प्रदर्शन अनुसार अंक विभाजन

03र्-4ि1-03052021-56कोरबा।डा संजय गुप्ता

सीबीएसई सहोदय संकुल के सचिव डा संजय गुप्ता ने बताया किमूल्यांकन नीति के अनुसार हर विषय के लिए 20 अंक आंतरिक मूल्यांकन से दिए जाएंगे, जबकि 80 नंबर पूरे साल विभिन्ना परीक्षाओं में छात्रों के प्रदर्शन के आधार पर की जाएगी। छात्रों का मूल्यांकन प्रत्येक विषय के कुल 100 अंकों में 20 अंक का होगा। 80 अंक वा र्षिक परीक्षा के लिए निर्धारित हैं। छात्रों का 20 अंकों के लिए आंतरित मूल्यांकन के आधार पर उनके स्कूलों की ओर से दिया जाएगा। आंतरित मूल्यांकन का डेटा सीबीएसई के पोर्टल पर अपलोड को गया है। यूनिट टेस्ट के 10 अंक, मिड टर्म परीक्षा के 30 अंक व प्री बोर्ड परीक्षा के 40 अंक कुल 80 अंक छात्रों प्रदर्शन के आधार पर मिलेंगे। 11 जून तक स्कूलों के पास एसेसमेंट का डेटा अपलोड करने का समय है।

संतुष्ट नहीं तो विशेष परीक्षा में बैठने का विकल्प

इस बार दसवीं बोर्ड परीक्षा के नतीजे इंटरनल असेसमेंट के आधार पर तैयार किए जाएंगे। अगर किसी स्कूल ने एक से अधिक टेस्ट या परीक्षा ली है, जिसमें छात्र के बेहतर अंक रहे तो उन्हें ही रिजल्ट में शामिल किया जाएगा। इस प्रकार निर्धारित कर दिए गए अंकों से संतुष्ट नहीं होने वाले विद्यार्थियों के पास परीक्षाओं के लिए आगे की तारीख में शामिल होने का अवसर भी होगा, जब वे ते हैं। उसी के अनुरूप बोर्ड ने अब एक विस्तृत नीतिगत दस्तावेज जारी किया है, जिसे सीबीएसई के कक्षा 10 बोर्ड परीक्षा वर्ष 2021 की गणना और रिजल्ट तैयार किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags