कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। संक्रमण को चेन को तोड़न के लिए सप्ताह के रविवार को अन्य दिनों की अपेक्षा लाकडाउन में सख्ती रहेगी। आठ जरूरी सेवाओं को छोड़ कर सभी गतिविधियां बंद रहेंगी। अस्पताल, मेडिकल, दुग्ध, पशु आहार, नर्सिंग होम, क्लिनिक से जुड़ी सेवा के साथ पेट्रोल पंप, दुग्ध व अखबार के वितरण की अनुमति होगी। सब्जी और राशन के लिए भी निकले तो कार्रवाई होगी।

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन ने 17 मई तक लाकडाउन की घोषणा कर दी है। इस दौरान पड़ने वाले प्रत्येक रविवार को नियम में सख्ती बरतने का भी निर्णय लिया गया है। अन्य दिनों की तरह इस दिना सब्जी और फल विक्रेता फेरी लगाकर भी बिक्री नहीं करेंगे। किराना व्यवसायी घर पहुंच राशन की सेवाएं नहीं दे पाएंगे। सरकारी राशन दुकाने भी बंद रहेगी। कोविड टीकाकरण के लिए लोग अस्पताल जा सकेंगे। इसके अलावा होम आइसोलेट संक्रमितों के घर दवा आपूर्ति यथावत जारी रहेगी। संक्रमण तोड़ने के लिए इस आदेश के पालन के लिए प्रत्येक चौक चौराहों में सुरक्षा तेज की जाएगी। प्रशासन ने पूरे शहर को पहले से ही वन वे मार्ग बना दिया है। रविवार को बायपास मार्गों में भी निगरानी तेज रहेगी। अनावश्यक आवागमन करने वालों पर आपदा प्रबंधन नियम उल्लंघन नियम के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

सरकारी अस्पातलों में नहीं डायलिसिस सुविधा

किडनी रोग से ग्रसित मरीजों के लिए डायलिसिस अनिवार्य है। जिले के सरकारी अस्पातलों में डायलिसिस से पहले कोरोना जांच कराने के लिए कहा जा रहा है। संक्रण की स्थिति उनका डायलिसिस करने के बजाय उन्हे बिलासपुर अथवा रायपुर अस्ताल का रास्ता दिखाया जा रहा है। संक्रमित मरीजों को सुविधा के अभाव में बचा पाना मुश्किल हो रहा है। बताया जा रहा है कि जिला अस्पताल, ट्रामा सेंटर और एसईसीएल के एनसीएच गेवरा अस्पताल में डायलिसिस मशीन है। सामान्य सहित एचआईवी के डायलिसिस मरीजों को सुविधा तो किसी तरह मिल जाती है लेकिन इन दिनों कोरोना संक्रमित हो जाने पर किसी भी तरह की सुविधा नहीं मिल पा रही है।

एंबुलेंस सुविधा के नाम पर लूट

जिले में भर में जहां संक्रमण को लेकर मरीजों और उनके परिजनों में त्राहि मची हुई है वहीं निजी एंबुलेंस संचालकों ने त्वरित सेवा देने के नाम पर लूट मचा रखी है। निश्शुल्क अथवा कम दर में अनिवार्य सेवा देने की दावा करने वाले एंबुलेंस चालकों ने अपने पैतरे बदल लिए हैं। जिला के सरकारी अस्पातल से शहर ही के किसी निजी अस्पातल में ले जाना हो तो 10 से 15 हजार की मांग की जा रही है। मामला यदि रायपुर अथवा बिलासपुर के अस्पताल में ले जाने का हो तो सीधे 40 से 50 हजार में सौदा तय किया जा रहा है। ऐसे मामलों को लेकर प्रशासन का निजी एंबुलेंस पर नियंत्रण नहीं होने से लोगों को ठगी का शिकार होना पड़ रहा है।

नियम विरूद्ध सामान लोडिंग, जुर्माना

08र्-2ि2-08052021-56 कटघोरा। वाहन में भरा किराना सामान

कोरोना संक्रमणकाल में नियम विरूद्ध किराना सामानों की लोडिंग करने वाले पांच वाहन संचालकों पर कटघोरा तहसीलदार ने पांच वाहन चालकों पर पांच-पांच यानि कुल 25 हजार का जुर्माना लगाया है। कोरोना महामारी को देखते हुए राशन सामान के लोडिंग अनलोडिंग के समय में प्रशासन ने परिवर्तन किया है। जिसके अनुसार रात में थोक सामान लाना ले जाना है। शनिवार को नियम की अवहलेना करते हुए दिन में ही सामान भरने का काम किया जा रहा है। सूचना मिलने पर तहसीलदार रोहित सिंह ने वाहन मालिक शिव पटेल, राजेंद्र कुमार, विक्की अग्रवाल, ज्योति जायसवाल और जवार पर जुर्माने की कार्रवाई की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags