कोरबा । नईदुनिया प्रतिनिधि

चोरी के मामले में जेल में निरुद्ध दो बंदी शाम को पानी टंकी के पाइप के सहारे दो मंजिला बैरक की छत पर जा पहुंचे। गणना के दौरान बंदियों की संख्या कम मिलने पर तलाशी लेते हुए प्रहरी छत तक पहुंचे तो प्रहरियों को देखकर 24 फीट की ऊंचाई से जेल के बाहर दोनों बंदियों ने छलांग लगा दी। गंभीर अवस्था में उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया। देर रात को एक बंदी ने दम तोड़ दिया।

कटघोरा उपजेल में यह घटना शनिवार की शाम 6.30 बजे की है। बताया जा रहा है कि शाम को चहलकदमी के लिए बैरक से कैदियों को बाहर परिसर में निकाला जाता है। चोरी के मामले में दो माह पहले ही जेल दाखिल किए गए सरमा गांव के रहने वाले रमेश कुमार सोठे पिता बृजलाल (20) व अशोक सिंह पिता राधेसिंह (24) फरार होने की योजना बना प्रहरियों से नजर बचा बैरक की छत पर चले गए। वहां से पानी की पाइप लाइन के सहारे बैरक की दूसरी मंजिल पर जा पहुंचे। वापस बंदियों को बैरक में भेजने से पहले सामूहिक रूप से गिनती की गई, तो दो कैदी कम मिले। प्रहरी जेल में तलाशी लेने लगे तो छत पर दोनों बंदी मिले। प्रहरियों को देखते ही 24 फीट ऊंचे छत से जेल के बाहर दोनों ने छलांग लगा दी। गंभीर रूप से घायल हो जाने की वजह से दोनों भाग नहीं सके और घटना के बाद प्रहरियों ने उन्हें पकड़ लिया। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कटघोरा में दोनों को भर्ती कराया गया, जहां बंदी अशोक को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। रमेश को शारीरिक चोट नजर नहीं आ रहा था, इसलिए चिकित्सक ने उसे वापस जेल भेज दिया। उधर जेल में रात तीन बजे उसकी हालत बिगड़ने पर दोबारा कटघोरा अस्पताल लेकर गए, जहां चिकित्सक ने परीक्षण उपरांत मृत घोषित कर दिया। माना जा रहा जेल में ही उसकी मौत हो गई थी।

चार प्रहरी तत्काल प्रभाव से निलंबित

लापरवाही बरतने वाले चार जेल प्रहरी गजेंद्र सिंह भदोरिया, ओंकार प्रसाद ध्रुव, गोवर्धन प्रजापति, सगनूराम दुग्गा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। आरोप है कि ड्यूटी के दौरान ये प्रहरी चौकस नहीं रहने की वजह से बंदी छत पर पहुंच गए और यह घटना हुई। एक सप्ताह पहले जिला जेल की दीवार पᆬांदकर एक चोरी का आरोपी पᆬरार होने की कोशिश किया। इस मामले में भी दो प्रहरियों को निलंबित किया गया है।

कटघोरा उपजेल से दो बंदी के भागने की कोशिश में एक बंदी हुई मौत के मामले की विस्तृत जांच की जाएगी। इस मामले की जांच के लिए डिप्टी कलेक्टर को जांच अधिकारी नियुक्त किया है। तीस दिन के अंदर रिपोर्ट सौंपने कहा गया है।

- किरण कौशल, कलेक्टर कोरबा

Posted By: Nai Dunia News Network