कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। लॉकडाउन जैसे विषम परिस्थितियों में भी बीपीएल हितग्राहियों को अपने वाजिब हिस्से के राशन से वंचित होना पड़ रहा है। पोड़ी-उपरोड़ा ब्लॉक के ग्राम सिंघिया में इस तरह की स्थिति देखी जा रही है। पीडीएस दुकान में कम तौलकर खाद्यान्न दिया जा रहा रहा था। हितग्राहियों के विरोध करने के बाद भी स्व-सहायता समूह की मनमानी जारी है। गुस्साए ग्रामीणों ने जांच कार्रवाई की मांग कलेक्टर से की है।

वनांचल ब्लॉक पोड़ी-उपरोड़ा के ग्राम पंचायत सिंघिया में शासन के निर्धारित मापदंड के विपरीत हितग्राहियों को कम खाद्यान्न वितरण किए जाने का मामला सामने आया है। ग्रामीणों के अनुसार सिंघिया में मां संतोषी स्व-सहायता समूह पीडीएस का संचालन कर रही है। समूह को अप्रैल, मई और जून का अतिरिक्त चावल पात्रतानुसार दिया जाना था, लेकिन हितग्राहियों को निर्धारित मात्रा से कम खाद्यान्न दिए जाने की शिकायत सामने आई है। वहीं मिट्टी तेल और शक्कर निर्धारित मूल्य से अधिक दर पर दिए जाने की बात सामने आई है। ग्रामीणों ने पंचायत में बैठक कर संबंधित समूह के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करने कलेक्टर को पत्र लिखा है। इसी तरह की शिकायत कुटेशर नगोई से भी सामने आ चुकी है। नवनिर्वाचित सरपंच ने जब अप्रैल माह में पीडीएस दुकान का प्रभार लिया तो ऑनलाइन स्टॉक में 283 क्विंटल चावल, 918 लीटर मिट्टी तेल और चना दर्शाया जा रहा था। पीडीएस दुकान में सामग्री जीरो होने पर खाद्य विभाग को इसकी सूचना दी गई, लेकिन मामले में सक्षम अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना