कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दर्री बराज के समानांतर तैयार हो रहा पुल लगभग पूरा हो चुका है। पुल के दोनों छोर के पहुंच मार्ग को मुख्य मार्ग से जोड़ने की तैयारी की जा रही है। जुलाई माह पुल में आवागमन शुरू हो जाएगा। पुल के अस्तित्व में आने से शहर के भीतर भारी वाहनों का प्रवेश कम होगा साथ पुराने जर्जर पुल से अधिभार कम होगा।

सात साल से प्रतीक्षा की जा रही समानांतर पुल निर्माण का काम अब अंतिम चरण में है। पुल को बारिश से पूरा करने के लिए काम तेज गति जारी है। पुल को पूरा करने में ठेकेदार की जिम्मेदारी के अलावा तकनीकी कारण भी बाधा बनी। कोरोना काल में साल भर मजदूरों की समस्या रही। तकनीकी जानकारी वाले मजदूरों के वापस अपने गांव चले जाने से काम डेढ साल तक ठप रहा। इस दौरान विभाग को निर्माण के लिए अतिरिक्त समय देनी पडीँ ।पिछले साल काम शुरू होने के बाद सर्वेश्वर एनीकट में पानी भरने से काम बंद हो गया। निगम प्रशासन से पानी कम करने की मांग की गई। अनुमति मिलने के बाद कार्य में प्रगति आई। बताना होगा कि कुसमुंडा, गेवरा खदान से होकर निकलने वाली कोयला लोड हाइवा आज भी शहर के टीपीनगर, मुड़ापार मार्ग से होकर निकलती हैं। सड़क जर्जर होने के कारण बार-बार मरम्मत की जरूरत होती है। तंग बायपास मार्ग में भारी वाहनों के आवागमन से दुर्घटना की संभावना बनी रहती है। सामानांतर पुल के बनने के बाद गेरवाघाट से रूमगड़ा होते हुए वाहनों आवागमन शहर के बाहर से होगा। इसके अलावा बालकों तक चलने वाली एल्युमिनियम व कोयला लोड वाहनों के लिए आवागमन सुगम होगी। सुरक्षित परिवहन मार्ग वाहन चालकों के लिए तय होगी। इसके अलावा गेरवाघाट पुल मार्ग की उपयोगिता भी सुनिश्चित होगी। माना यह भी जा रहा है कि नए पुल के अस्तित्व में आने से बराज के पुराने पुल से केवल छोटे चार पहिया व दोपहिया वाहनों का ही आवागमन होगा। सभी भारी वाहनें सामानांतर पुल से आवागमन करेंगी। इससे राहगीरों को आसानी होगी।

ठेकेदार को दिया जा चुका है पांच बार अतिरिक्त समय

18 करोड़ लागत से निर्मित पुल अपनी स्वीकृति काल से विवादों में रहा है। निर्माण के लिए ठेकेदार को सेतु निगम को पांच बार अतिरिक्त समय दिया जा चुका हैं। कई बार निविदा निरस्त करने की भी नौबत आ गई थी। नए ठेकेादार से काम कराए जाने पर लागत बढ़ सकती थी। इस वजह पुराने ठेकेदार से की काम कराया जा रहा है। बहरहाल काम प्रगति पर आने से सेतुनिगम ने राहत कि सांस ली है। पुल निर्माण शहर वासियों के लिए ऐतिहासिक उपलब्धि होगी।

15 जून से पहले बारिश हुई तो होगी मुश्किल

पुल पहुंच मार्ग को तैयार करने माह भर का समय लगेगा। बताया जा रहा है कि इस बार मानूसन का आगमन 15 जून से पहले हो रहा है। इस दौराना सामान्य बारिश होने पर काम जारी रहेगा। तेज बारिश और बांध के गेट खोलने की नौबत आने पर काम प्रभावित होने की संभावना है। विभागीय अधिकारी की माने तो पुल के जल भराव वाले क्षेत्र में काम पूरा किया जा चुका हैं। ऐसे में बारिश के दौरान काम प्रभावित होने की संभावना कम है।

समानांतर पुल में 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है। दोनों छोर से पहुंच मार्ग का काम चल रहा है। जिस गति से अभी निर्माण कार्य चल रहा है, उससे लग रहा है कि संभवतः जुलाई माह तक पुल को आवागमन के लिए पूरा कर लिया जाएगा।

एके जैन, कार्यपालन अभियंता, सेतु निगम

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close