कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोयला लदान से सर्वाधिक राजस्व हासिल करने के बाद रेल प्रबंधन द्वारा बरती जा रही उपेक्षा व रेलवे बोर्ड चेयरमैन से मुलाकात नहीं करने देने पर आखिरकार शहरवासियों की नाराजगी सामने आ गई। बैठक में एकमत होकर शहरवासियों ने स्पष्ट कर दिया कि अब उपेक्षा बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यात्री ट्रेन नहीं दी जाती है तो कोयला लदान भी नहीं होने दिया जाएगा। इसके लिए अब सड़क की लड़ाई जाएगी।

प्रेस क्लब तिलक भवन के सभागार में मंगलवार को हुई बैठक में सभी सामाजिक, कांग्रेस- भाजपा समेत अन्य राजनीतिक दल, श्रमिक संघ प्रतिनिधि, चेंबर आफ कामर्स समेत शहर के प्रबुद्धजन शामिल हुए। इस दौरान रेलवे को सबक सिखाने व जिले के यात्रियों को उनका अधिकार दिलाने निर्णायक लड़ाई लड़ने का संकल्प लिया। उपस्थित सभी प्रबुद्धजनों ने एकमतेन कहा कि रेलवे की मनमानी अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी। धूल प्रदूषण झेल कर देश की उर्जा की आवश्यकता को पूरी करने लगातार कोयला प्रदान किया जा रहा है और इससे रेलवे को सर्वाधिक राजस्व भी मिल रहा है, पर रेल सुविधाएं देने के नाम पर कोताही बरती जा रही है। जिलेवासियों के सब्र को रेल प्रबंधन ने मजाक बना लिया है। कोरोना काल से बंद हुई सभी ट्रेन पटरी पर नहीं लौटी है और जो ट्रेन चल रही है, उसे भी लेट लतीफ चलाया जा रहा है। इस दौरान संकल्प लिया गया कि सभी एकजूट होकर एकमंच के नीचे आंदोलन करेंगे। सर्वमंगला पुल से पवन टाकिज रेलवे क्रासिंग तक रेल चक्काजाम किया जाएगा। साथ ही कोरबा शहर बंद रखा जाएगा। आंदोलन के पहले रेल प्रबंधन को 15 दिन की नोटिस दी जाएगी। इस दौरान मांग पूरी नहीं की जाती है तो आरपार की लड़ाई लड़ी जाएगी। और कोरबा से कोयला का लदान तब तक बंद कर दिया जाएगा जब तक की नागरिकों की मांगे नहीं मानी जाती। यहां बताना होगा कि सोमवार को रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके त्रिपाठी कोरबा आए थे। इस दौरान रामपुर विधायक ननकीराम कंवर, महापौर राजकिशोर प्रसाद, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश परसाई की अगुवाई में जिले के नागरिक चेयरमेन से मुलाकात के लिए कोरबा रेलवे स्टेशन पहुंचे। जहां रेलवे के डीआरएम सहित स्थानीय अधिकारियों ने चेयरमेन से मिलने नहीं दिया। इस घटना को लेकर जनप्रतिनिधि समेत जिले के नागरिकों में आक्रोश भड़क गया।

पारित किया गया निंदा प्रस्ताव

बैठक में चेयरमैन वीके त्रिपाठी से मुलाकात नहीं करने देने पर एसईसीआर के अधिकारियों ने नीति की सभी लोगों ने निंदा की। इसके साथ ही निंदा प्रस्ताव पारित किया गया। सभी का कहना है कि जिस तरह से रेलवे के अधिकारियों ने जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा की है वह बर्दाश्त से बाहर है। रेलवे अधिकारी अब क्षेत्रवासियों की मांग पूरी करें, तभी उन्हें कोयला लदान करने दिया जाएगा।

सांसद ज्योत्सना व मंत्री जयसिंह ने दिया समर्थन

रेल प्रबंधन की उपेक्षा को लेकर आंदोलनरत क्षेत्रवासियों की मांग को सांसद ज्योत्सना महंत व राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने समर्थन दिया है। इसके साथ ही भाजपा जिलाध्यक्ष डा राजीव सिंह व अन्य संगठन के पदाधिकारियों ने समर्थन देने कहा है। बैठक में निर्णय लिया गया कि कोरबा प्रवास में पहुंच रहे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह से भी मुलाकात कर रेल प्रबंधन के अड़ियल रवैया से अवगत कराएंगे और रेल सुविधाएं बहाल करने मांग करेंगे

बैठक में ये रहे उपस्थित

तिलक भवन के सभागार में हुई बैठक के दौरान रामपुर विधायक ननकीराम कंवर, महापौर राजकिशोर प्रसाद, निगम सभापति श्यामसुंदर सोनी, पूर्व विधायक लखनलाल देवांगन, श्यामलाल कंवर, हरीश परसाई, विजय खेत्रपाल, किशोर शर्मा, कमलेश यादव, एमडी माखिजा, सपना चौहान, कुसुम द्विवेदी, हितानंद अग्रवाल, आरिफ खान, मुरली महंत, नरेन्द्र कुमार अग्रवाल, देवेंद्र पांडेय, शनित शुक्ला, किशोर सिन्हा, जिला उद्योग संघ और अग्रवाल सभा के अध्यक्ष श्रीकांत बुधिया, जिला ओलंपिक संघ के अध्यक्ष नौशाद खान, कायस्थ समाज व प्रेस क्लब कोरबा के अध्यक्ष राकेश श्रीवास्तव, यादव समाज के जिला अध्यक्ष नत्थूलाल यादव, साहू समाज से गिरधारी साहू, चेंबर आफ कामर्स से विनोद अग्रवाल, एचएमएस से रेशम लाल यादव, एटक से दीपेश मिश्रा, ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन से अरूण शर्मा, राजपूत क्षत्रीय समाज व पूर्वांचल विकास समिति के जिला अध्यक्ष अवधेश सिंह, मनोज अग्रवाल व प्रेम मदान, जिला अधिवक्ता संघ सचिव नूतन सिंह ठाकुर, पार्षद अमरजीत सिंह, रितु चौरसिया, पुराईन बाई कंवर, पोषकदास महंत, बालाराम साहू, चितरंजन साहू, विनोद सिन्हा, मोहम्मद रफीक मेमन, मो न्याज नूर आरबी, मनोज पराशर, रवि चंदेल, विकास झा, अजय साहू, कैलाश सिंह राजपूत, नारायण महंत व अनवर रजा समेत बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित रहे।

प्रमुख मांगें

0 कोरोनाकाल से पहले गेवरा रोड कोरबा से चल रही और वर्तमान में बंद ट्रेनों को बहाल करने,

0 कोरबा स्टेशन की सेकेंड एंट्री शुरू करने

0 सप्ताह में चार दिन चल रही हसदेव एक्सप्रेस को नियमित करने

0 शिवनाथ व छत्तीसगढ एक्सप्रेस की वापसी कोरबा- गेवरा रोड तक

0 पिटलाइन को तत्काल शुरू करने

0 नई ट्रेनों में नवतनवा, रीवां एक्सप्रेस व बिलासपुर- इंदौर नर्मदा एक्सप्रेस, बीकानेर एक्सप्रेस को कोरबा से चलाने

0 कोरबा- हावड़ा एक्सप्रेस व कोरबा से रांची के लिए सीधी ट्रेन की सुविधा

0 गेवरा रोड स्टेशन का नाम बदलकर कुसमुंडा रखने

0 दीपका में रेलवे स्टेशन की मांग, संभव नहीं होने पर जवाली में बन रहे स्टेशन का नाम दीपका रखने

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close