महासमुंद (नईदुनिया न्यूज)। भारतीय संविधान दिवस के अवसर पर प्राचार्य मीना पाणिग्राही एवं सहायक प्राध्यापक अरुण प्रधान के मार्गदर्शन में जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डाइट) महासमुंद में भारतीय संविधान की उद्देशिका प्रस्तावना का सामूहिक वाचन कराते हुये संविधान की रक्षा एवं सम्मान हेतु छात्राध्यापकों को शपथ दिलाया गया ।इस अवसर पर संस्थान के वरिष्ठ व्याख्याता प्रकाश प्रधान द्वारा चर्चा करते हुये कहा गया कि वर्ष 2015 में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डा भीमराव अम्बेडकर की स्टैच्यू आफ इक्वेलिटि स्मारक की आधारशिला रखते हुये 26 नवंबर को संविधान दिवस के रुप में घोषित किया है । उक्त विचारधारा को बनाये रखने एवं संविधान की प्रस्तावना को पढा उत्सव का अभिन्ना अंग है । उन्होंने कहा कि हमारा संविधान हमेशा देश की आत्मा है इसे अक्षुण्ण बनाये रखना हम सबका कर्तव्य है । इसी तारतम्य में संस्थान के पुस्तकालय प्रभारी अमरदास कुर्रे ने कहा कि भारतीय संविधान नागरिकों के न्याय, स्वतंत्रता एवं समानता के साथ विश्वबंधुतत्व को उध्दृत करता है । उन्होंने कहा कि हमारे देश का संविधान दुनिया में लंबे समय तक लिखित संविधान होने की प्रतिष्ठा रखता है । प्रस्तावना का सामूहिक वाचन करते हुये समस्त छात्राध्यापकों द्वारा संविधान की रक्षा एवं सम्मान का संकल्प दुहराया ।इस अवसर पर प्रमुख रुप से सहायक प्राध्यापक के सिंग, व्याख्याता जीवनलाल डहरिया सहित समस्त स्टाफ सदस्य उपस्थित थे। खरोरा। प्री मेट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास महासमुंद में संविधान दिवस मनाया गया। डॉ भीमराव अम्बेडकर के छायाचित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया। संविधान की उद्देशिका का वाचन किया गया। अधीक्षिका ऋतु चंद्राकर द्वारा संविधान के निर्माण एवं महत्त्‌व के बारे में बताया गया। सभी विद्यार्थियों ने संविधान का सम्मान करते हुए,संविधान के अनुसार कार्य करने का संकल्प लिया। इस अवसर पर अधीक्षिका ऋतु चंद्राकर, कर्मचारी गण तनुजा, सुषमा, रेशमा और छात्रावासी छात्राएं उपस्थित थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close