महासमुंद। कोमाखान पुलिस और साइबर सेल ने नशे के सौदागरों पर अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए एक नशे के सौदागर के पास से लाखों रूपये के प्रतिबंधित नशीली टेबलेट और कफ सिरप बरामद किया है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 21 नारकोटिक्स के तहत कार्रवाई की है।

कंट्रोल रूम में एसपी भोजराम पटेल ने बताया कि शुक्रवार को मुखबिर से सूचना मिली कि एक व्यक्ति एनएच-53 में कोमाखान और चौखड़ी के बीच कई कार्टूनों में नशीली दवाइयों को बेचने के फिराक में ग्राहक तलाश रहा है। सूचना पर पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपी को धर दबोचा। पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम गंभारीगुड़ा थाना सिनापाली जिला नुआपाड़ा ओड़िशा निवासी शेखर मेहरे पिता अनंतराम मेहरे (30) बताया।

आरोपी के कब्जे से बरामद कार्टूनों के संबंध में पूछताछ की गई तो आरोपी ने पुलिस को गुमराह करते हुए खुद का रमेश मेडिकल स्टोर्स हाथीबांधा जिला भवानीपटनम में होना बताया। पुलिस ने कार्टून खोलकर देखा तो पांच नग कार्टून में सिरप प्रत्येक पेटी में 160-160 नग प्रत्येक शीशी 100-100 मिली का कुल 800 नग कीमत एक लाख चालीस हजार। दो नग कार्टून में 0.5 कुल 41270 नग पत्ता कीमत दो लाख 23 हजार 810 रुपये कुल कीमत तीन लाख 63 हजार 810 जब्त किया।

साथ ही एक मोबाइल और एक हजार एक सौ बीस रूपये भी बरामद किया। इस संबंध में पूछताछ करने पर आरोपी कोई वैध रसीद, दवा खरीदी का बिल आदि नहीं दिखा सका और पुलिस को लगातार गुमराह करता रहा। कड़ाई से पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह छत्तीसगढ़ और ओड़िशा में नशीली दवाओं का व्यापार करता है और अब तक 50 लाख से अधिक का व्यापार कर चुका है। इस बार भी वह नशीली दवाईयां और सिरप यहां बेचने के लिए आया था।

शातिर अपराधी है आरोपी-एसपी

एसपी पटेल ने बताया कि आरोपी बहुत समय से नशीली दवाएं बेचने का काम कर रहा है। अब तक 50 लाख कीमत की प्रतिबंधित दवाओं का व्यापार कर चुका है। पुलिस आगे की पूछताछ में जानकारी एकत्रित करने की कोशिश करेगी कि यह खेप उसे कहां से प्राप्त होता है और इससे पहले वह इन दवाएं कहां-कहां खपा चुका है।

कोमाखान व साइबर पुलिस ने अब तक का सबसे बड़ा नशीली दवाइयों का खेप पकड़ा है जिसके लिए मै दस हजार रूपये नकद इनाम की घोषणा करता हूं साथ ही आईजी, डीआईजी को भी इन्हें पुरस्कृत करने का प्रस्ताव भेजूंगा।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close