महासमुंद। अष्टमी पर बुधवार को सुबह से देवी मंदिरों और दुर्गा पंडालों में हवन-पूजन हुआ। सुबह नगर की कुल देवी मां महामाया मंदिर में हवन-पूजन सम्पन्ना कर सुख-समृद्धि की कामना की गई। यहां पंडित पंकज तिवारी ने विधिवत हवन संपन्ना कराया। इसमें नगर से बड़ी संख्या में भक्त शामिल हुए। हवन करीब सुबह 10 बजे हुआ। इसके बाद मां शीतला मंदिर में हवन हुआ। दोपहर में बरोंडा चौक दुर्गा मंदिर, सतबहनिया मंदिर में हवन पूजन किया गया। इधर, शहर के दुर्गा पंडालों में भी दोपहर तक हवन चलता रहा। बाद भोज भंडारा का आयोजन हुआ। आज से पंडालों में विराजित प्रतिमाओं का विसर्जन शुरु होगा। कई पंडालों में गुरुवार को हवन होगा। समितियों ने विसर्जन को लेकर तैयारी पूरी कर ली है।

भोग भंडारे का भी आयोजन

शहर में कुछ स्थानों पर भोग भंडारे का आयोजन भी किया गया। पुराना रायपुर नाका में शाम को हवन के बाद भंडारा हुआ। महामाया और शीतला मंदिर में भंडारे का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है। सतबहनिया मंदिर के भंडारे में लोगों ने कतारबद्ध होकर प्रसाद ग्रहण किया। हालांकि कोविड की वजह से अधिकांश देवी मंदिरों और पंडालों में होने वाला भंडारा कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है।

मंत्रोच्चार से गूंजता रहा देवी मंदिर व दुर्गा पंडाल

ग्राम बिरकोनी में श्रद्धा एवं आस्था का पर्व नवरात्र अंचल के प्रसिद्ध देवी मंदिरों में मनाया जा रहा है। बुधवार सुबह से शाम तक श्रद्धालुओं ने सामाजिक दूरी बनाकर दर्शन के लिए मंदिर पहुचे। बुधवार को नवरात्र अष्टमी पर्व पर मंदिरों में विशेष श्रृंगार किया गया था। दुर्गा पण्डाल में दोपहर तीन बजे हवन पूजा में भक्तों ने आहुति दी। मंत्रों के जाप से हवन पूजा सम्पन्ना कराया। हवन-पूजा के बाद व्रतधारियों ने नौ कन्या भोज कराकर व्रत का समापन किया। दुर्गा मंदिर सहित खल्लारी, शीतला, महामाया मंदिर में हवन किया गया। देवी मां की हवन पूजा कर मंत्रों का जाप किया गया। बाजार चौक दुर्गा मंदिर में भंडारा के कार्यक्रम में श्रध्दालुओं की भीड़ रही।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local