महासमुंद। छत्तीसगढ़ राज्य के अधिकांश लिों में भारी भारी से अति भारी संभावना जतायी गई है। इसमें महासमुंद जिला भी है। इस बीच मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में अलर्ट जारी किया है और भारी वर्षा का पूर्वानुमान जताया है।

इसे कलेक्टर निलेश कुमार क्षीरसागर ने महासमुंद लिे में संभावित भारी वर्षा को देखते हुए जिला आपदा प्रबंधन को सतर्र्क रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने 24 घंटे आपदा कंट्रोल रूम चालू रहे सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

केंद्रीय मौसम विभाग ने कई राज्यों के लिए अलर्ट जारी किया है और भारी वर्षा का पूर्वानुमान जताया है। बताया कि ओडिशा में कम दबाव का एक क्षेत्र बनने से अगले दो दिनों में मूसलाधार वर्षा होने के कारण बाढ़ की स्थिति पैदा हो सकती है।

बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र बन गया है जिससे कुछ राज्यों में वर्षा होने की संभावना है।

एमआइडी के मुताबिक अगले 24 घंटों में बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, कोरबा, महासमुंद और रायगढ़ जिलों में कई स्थानों पर अति भारी वर्षा होने की संभावना व्यक्त की है।

-कलेक्टर ने जिले में भारी वर्षा की संभावना को देखते हुए आपदा प्रबंधन को सतर्क रहने के दिए निर्देश

---

सरकार मांगें मान लेती हैं तो सोमवार से खुलेंगे ताले

महासमुंद। सरकारी दफ्तरों में शुक्रवार से ताला लग गया है। ये ताला अधिकारी कर्मचारी आंदोलन से लगा है। यदि सरकार उनकी मांगों को मान लेती है तो सोमवार से खुलेगा और सामान्य रूप से काम-काज चलेगा, लेकिन सरकार उनकी मांगों को नजरअंदाज करती है तो दफ्तरों में ताला लटका रहेगा। इससे आमजनों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। फेडरेशन के हड़ताल में शिक्षक भी शामिल हो रहे हैं।

सरकार ने अभी तक उनकी मांगों पर विचार नहीं किया है। हालांकि छह प्रतिशत डीए में बढ़ोतरी की है, लेकिन उनकी मांग है कि केंद्र के सामान डीए व सातवें वेतन के अनुसार गृह भाड़ा मिले। इधर, फेडरेशन अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल में जाने का पूरा मन बना लिया है। इसके लिए लगातार बैठकें चल रही है।

--

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close