बागबाहरा। इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित रिस्पांन्सबल एआइ फार यूथ प्रतियोगिता के टाप 20 में नर्रा के दो छात्रों ने स्थान बनाया।

इनके प्रोजेक्ट को दिल्ली के इंडिया हैबिटेट सेंटर में 29 व 30 नवंबर को आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री अश्वनी वैष्णव ने सम्मानित किया।

दिल्ली से वापस आने पर छात्र वैभव एवं धीरज का स्वागत व सम्मान समारोह शुक्रवार को शाला प्रबंधन एवं विकास समिति तथा शाला परिवार की ओर से आयोजित किया गया।

खरियार रोड़ स्टेशन में समिति के अध्यक्ष विजय शंकर निगम एवं जनपद सदस्य उत्तम राणा तथा छात्रों के स्वजन ने पुष्पगुच्छ और पुष्पमाला से छात्रों का स्वागत किया। शाला प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में छात्रों एवं उनके स्वजन का सम्मान किया गया।

अध्यक्ष विजय शंकर निगम, विधायक प्रतिनिधि उमेश जैन, ग्राम नर्रा सरपंच गोपाल किशन पटेल, रूपेंद्र साहू, आनंद वर्गीस, ललित पटेल, तामेश्वर पटेल, मुबारक खान, मेघनाथ यादव, धरम पटेल ने वैभव एवं धीरज का गुलाल और पुष्पगुच्छ, शाल और श्रीफल से सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर दोनों छात्रों को कार्यक्रम का मुख्य अतिथि के रूप आमंत्रित किया गया था। दोनों छात्रों ने विद्यालय के छात्रों को संबोधित करते हुए 2020 से अब तक की इस कार्यक्रम कि यात्रा अपने अनुभव मेहनत और तकनीक के बारे में विचार साझा किया।

दोनों छात्रों ने विद्यालय के शैक्षणिक वातावरण की सराहना करते हुए वर्तमान अध्ययनरत सभी छात्रों को इस अवसर का अधिकाधिक लाभ लेने का आह्वान किया। अध्यक्ष विजय शंकर निगम ने कहा कि छात्र शैक्षणिक एवं सह शैक्षणिक गतिविधियों में अनुशासित तरीके से सहभागिता करके अपना एवं अपने समाज का नाम ऊंचा करें।

उमेश जैन ने कहा कि मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती, इसलिए लगातार किसी भी परिस्थिति में मेहनत करते रहना चाहिए। सरपंच गोपाल पटेल ने कहा कि पंचायत क्षेत्र के इस विद्यालय के विभिन्न सुविधाओं को पूरा करने में पंचायत अपना पूरा सहयोग करेगा।

इस अवसर पर छात्रों के मार्गदर्शक व्याख्याता सुबोध तिवारी का भी शाल और श्रीफल से सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि प्रत्येक छात्र को समाधान का कारण बनना चाहिए और यही जुनून प्रत्येक दिन जिंदगी में उनको सफल बनाएगा।

संचालन व्याख्याता रतन लाल कोसरे ने किया। इस अवसर पर शाला के शिक्षक पन्नालाल साहू, नीलिमा भोई, कामता प्रसाद साहू, मिलन नेताम, दुर्गेश चंद्राकर, पटेल मैडम, ओमप्रकाश यादव, कौशल चक्रधारी, खगेश्वर शाहनी, सुखराम चंद्राकर, रेणु साहू, मनीष यादव सहित बड़ी संख्या में छात्र छात्राएं उपस्थित रहीं।

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के अंतिम चरण में देश के विभिन्न राज्यों से स्कूली बच्चों ने अपना प्रोजेक्ट की प्रस्तुति दी। जिसमें से 20 स्कूलों के प्रोजेक्ट का चयन किया गया है, उन 20 प्रोजेक्ट में से छत्तीसगढ़ राज्य के कृषि पर आधारित एक प्रोजेक्ट का चयन हुआ है और शीर्ष 20 की सूची में छठवें स्थान पर रहे।

छत्तीसगढ़ राज्य के अलावा अरुणाचल प्रदेश से दो, असम से दो, चंडीगढ़ से एक, दिल्ली से एक, केरल से दो, मध्य प्रदेश से दो, ओडिशा से एक, पंजाब से एक, राजस्थान, तेलंगाना, त्रिपुरा से एक-एक, उत्तर प्रदेश से एक, उत्तराखंड से दो और पश्चिम बंगाल से एक माडल शीर्ष 20 में रहा।

सुबोध तिवारी एटीएल कन्वेनर ने बताया कि शीर्ष 20 में आना गौरव की बात है, इस उपलब्धि के बाद टीम नर्रा एक नए उमंग व नए सिरे से आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के अन्य गतिविधियों में जुटेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local