महासमुंद। आज छह जुलाई है। इस तिथि को 1998 में अविभाजित मध्यप्रदेश का 61 वां जिला महासमुंद बना था। आज महासमुंद जिला छतीसगढ़ राज्य का जिला है और अपनी स्थापना का 24वां वर्ष मना रहा है।

जनता को बेहतर व्यवस्था देने का पूरा प्रयास कियाः प्रकाश

महासमुंद । नगर पालिका अध्यक्ष रहते पिछले ढाई सालों के कार्यकाल में जनता को बेहतर व्यवस्था देने का पूरा प्रयास किया गया। कुछ पार्षदों के असंतोष के कारण हमें नगर की सत्ता गंवानी पड़ी। इन ढाई वर्षों में किसी भी कार्य से जनता को कोई नाराजगी हुई हो तो खेद प्रकट करते हैं।

उपरोक्त बातें मंगलवार को भाजपा नेता व पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चंद्राकर ने मीडिया से चर्चा में कही। उन्होंने कहा कि अध्यक्ष रहते आम जनता को सड़क, पानी, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाएं देने के लिए उन्होंने जी जान से कोशिश की। इस दौरान बहुत से विकास कार्य कराए गए। सबसे महत्वपूर्ण

शहर की 80 हजार आबादी को तीन समय पानी देना, मुख्यमार्ग पर सेंटर पोल लाइट सहित नागरिकों की हर आवश्यकता को पूरा करना अपना ध्येय रखा। इन सब कार्यों को पूरा करने भाजपा नेताओं का पूर्ण सहयोग मिला। पूर्व नपाध्यक्ष व वार्ड 17 के पार्षद चंद्राकर ने कहा कि नगर पालिका परिषद में भाजपा का बहुमत होते हुए भी असंतुष्ट पार्षदों को हम मना नहीं पाए जिसके चलते सत्ता गंवानी पड़ी। वे बतौर पार्षद जनता केे कार्यों के लिए हमेशा समर्पित रहेंगे। चर्चा में पार्षद देवीचंद राठी, संदीप घोष मौजूद थे।

शराब बिक्री की कलेक्शन राशि लाकर से हो गई पार

महासमुंद । सरायपाली चेस्ट में शराब बिक्री की कलेक्शन राशि की चोरी का मामला सामने आया है। पुलिस ने मामले में पखवाड़ेभर बाद सुरक्षा कंपनी के प्रबंधन की शिकायत पर दो गार्डो के खिलाफ गबन की धारा के तहत जुर्म दर्ज कर जांच में लिया है।

पुलिस को टाप सिक्युरिटी एण्ड फैसिलिटीज मैनेजमेंट कंपनी के जिला समन्वयक प्रवेश कुमार जैन ने बताया कि बीते 14 जून की रात एक बजे अर्जुन सुराना ने फोन कर सूचना दी कि शराब बिक्री की कलेक्शन की राशि करीब 47 लाख रुपये लॉकर में रखा था उसे अज्ञात व्यक्ति ताला खोलकर ले गया। जानकारी पर वे रात तीन बजे सरायपाली पहुंचे। सभी से बातचीत करने पर बताया गया कि सभी स्टाफ घनश्याम, परशुराम, प्रज्वलित सिंह मनोहर, पीकू, असीम, मनीष के साथ घनश्याम के जन्मदिन कार्यक्रम में घनश्याम के घर गए थे। जाने से पहले गार्ड डोमन लाल वर्मा को बताकर गए थे कि जन्मदिन पार्टी में जा रहे हैं।

रात लगभग साढ़े आठ बजे डोमन लाल को दरवाजा लॉक करने के लिए कहते हुए निकल गए थे। लेकिन डोमन लाल ने दरवाजा लॉक नहीं किया। रात 11 बजे प्रज्वलित सिंह भी चेस्ट रूम जाने के लिए निकल गया था। रात को पार्टी के बाद लगभग एक बजे वापस आने पर देखा कि प्रज्वलित सिंह दरवाजा के बाहर सोया है और गनमैन डोमन लाल अंदर सोया है और चेस्ट रूम का दरवाजा खुला था व अंदर जाकर मनोहर व अर्जुन सुराना द्वारा देखने पर चेस्ट खुला व खाली था तथा पीछे का दरवाजा खुला था। स्टाफ द्वारा बताया गया कि रोज चेस्ट व चेस्ट रूम की चाबी प्रज्वलित सिंह रखता था। किसी ने हमारी सरकारी राशि को वहां से गबन व हेराफेरी कर ली है अथवा ले गया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close