पैकिन-सरायपाली। नईदुनिया न्यूज

अंतर्गत यातायात के नियमों में कड़ाई होने के बाद अब वाहनों के मालिक इसके प्रति गंभीरता ले रहे हैं। यातायात नियमों में भारी भरकम जुर्माने का डर हो या वाहन चालकों में जागरूकता आ रही है। वाहन मालिक अपने-अपने वाहनों के कागजात पूर्ण करने के लिए सजग दिखाई देने लगे हैं। वाहनों में विभिन्न कागजातों के साथ वाहन प्रदूषण की जांच का भी प्रमाण-पत्र अनिवार्य है। इसके लिए इन दिनों प्रदूषण की जांच करवाने वालों की संख्या में काफी बढ़ोत्तरी हुई है।

पूर्व में प्रदूषण की जांच करवाने के लिए एक दिन में जहां 10-12 वाहन आते थे, वहीं इन दिनों 35 से 40 वाहन प्रतिदिन प्रदूषण की जांच कराए जा रहे है। नगर के घंटेश्वरी मंदिर के पास वाहनों में प्रदूषण की जांच कर रहे पीयूसी वाहन के पास अच्छी भीड़ दिखने लगी हैं।

विगत दिनों केंद्र सरकार ने यातायात नियमों के प्रति काफी सख्त रवैया अपनाया गया है और नियमों का उल्लंघन करने पर भारी-भरकम जुर्माने का प्रावधान किया गया है. हालांकि छत्तीसगढ़ में अभी इन नियमों के लागु होने के संबंध में किसी प्रकार का स्पष्ट निर्देश सामने नहीं आया है। इसके बावजूद लोगों में इसके प्रति जागरूकता दिखाई दे रही है और वाहनों से संबंधित सभी प्रकार के कागजातों को पूर्ण करने में लगे हुए हैं।

इसी कड़ी में वाहनों में प्रदूषण की जांच के लिए भी काफी भीड़ दिख रही है। यहां विगत अक्टूबर 2018 से रंजीत सिंह आहूजा ने वाहनों के लिए प्रदूषण मुक्त कार्ड बनाने की एजेंसी ली है, वाहन चेकिंग के बाद प्रदूषण मुक्त कार्ड जारी करने वाले वेदप्रकाश चैहान ने बताया कि एक सितंबर से यातायात नियमों में बदलाव होने के कारण प्रतिदिन 20-25 चारपहिया एवं 15-20 दोपहिया वाहन प्रदूषण की जांच करवाने आ रहे हैं।