महासमुंद। नईदुनिया न्यूज

शहीद वीर नारायण सिंह जलाशय कोडार में एक सीजी, नौसेना इकाई, एनसीसी से आयोजित सैलिंग एक्सपीडिशन के नौंवे दिन टीम ने अभ्यास का सबसे कठिन 34 किलोमीटर का सफर तय किया। कैंप कमांडेंट कमांडर श्रवण कुमार खुंटिया और वरिष्ठ प्रशिक्षक पेटी ऑफिसर टी प्रकाश ने कैडेट्स के इस जोश और जज्बे की सराहना की। कैंप सीएचएम भूपेन्द्र सिंह चौहान ने बताया कि मौसम में हल्की खराबी से जलाशय की सतह पर हवा प्रवाह अधिक था। अधिक हवा प्रवाह सेलिंग बोट को गति तो प्रदान करता है, पर बोट संचालन में कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ता है। सोमवार सुबह आठ बजे शुरू हुई सैलिंग में कैडैट्स को टास्क दिया गया था कि कोडार जलाशय के किनारे को छूते हुए तीनों गांव के किनारे को एक दिन के दौरे में पूरा करना है। कैडेट्स कठिन परिश्रम, ज्ञान और प्रशिक्षण के अनुसार हवाओं के सकारात्मक दिशा से यह टास्क पूरा कर लिया और शाम 5 बजे तक दिन का नौकायन अभ्यास पूरा किया। सभी कैडेटों ने यात्रा का पूरा आनंद लिया। कैडेट कैप्टन (एसडब्लयू) गनिता साहू और सीनियर केडेट कैप्टन (एसडी) जीतू साहू ने इस सफर को सबसे कठन और रोमांचक बताया। इस बीच, भारतीय नौसेना के प्रशिक्षकों ने किसी भी घटना से निपटने के लिए बचाव नाव से खोज और बचाव की प्रक्रिया और पानी में डूबने से बचाव के तरीकों से अवगत कराया। खोज और बचाव डेमो के दौरान एक ड्रोन का उपयोग किया गया था, जिससे कैडेट्स को एक प्रभावकारी प्रशिक्षण मिला।

Posted By: Nai Dunia News Network