पिथौरा(नईदुनिया न्यूज)।

बुंदेली के जंगल में लंबे समय से वन्य प्राणियों का शिकार चल रहा था। दो साल पहले भी इसी तरह चीतल, जंगली सूअर, सांभर के शिकार के लिए बिछाए गए करंट प्रवाहित तार की चपेट में आकर दो भालुओं की मौत हुई थी और उन दिनों भी वन विभाग की टीम ने शिकार मामले में दो आरोपितों की गिरफ्तारी की थी। अब तीन अगस्त को फिर दो भालुओं के शिकार की घटना ने इस बात को साबित कर दिया है कि इस क्षेत्र में वन्य प्राणियों का शिकार लंबे समय से चल रहा है। शिकारी चीतल, सांभर का शिकार कर आपस में मांस को बांट लेते हैं या फिर जंगल में ही पकाकर खा जाते हैं।

ज्ञात हो कि पिथौरा वन परिक्षेत्र के बुंदेली सर्किल क्षेत्र के जंगल में बड़ी तादाद में हिरण, सांभर, जंगली सूअर के अलावा अन्य वन्य प्राणी मौजूद हैं जिनका शिकार इस क्षेत्र में लंबे समय से हो रहा है। वन्य प्राणियों के शिकार मामले में अब तक दर्जनों कार्रवाई भी हो चुकी है, किंतु यह कारोबार थमने का नाम नहीं ले रहा है। लोग बेखौफ तरीके से इस कारोबार को अंजाम देने में लगे हुए हैं।

दो साल पहले के मामले में शिकारियों ने घटना को अंजाम देकर समीप के नाले के रेत में दफना दिया था। गिरना एवं छिदोली से लगे जंगल से निकलकर वन्य प्राणी भोजन की तलाश में आसपास के खेतों तक पहुंचते हैं इसी का फायदा उठाकर शिकारी उन्हें करंट के माध्यम से शिकार कर घटना को अंजाम देते हैं।

शिकारी जोन बन गया है बुंदेली जंगल

बुंदेली क्षेत्र में हो रहे लगातार शिकार के मामलों को देखा जाए तो यह क्षेत्र शिकारियों के लिए सुरक्षित जोन बन गया है। करंट की चपेट में आने से भालुओं की मौत हो जाने के बाद शिकार की घटना उजागर हो जाती है किंतु इसके स्थान पर अन्य वन्य प्राणी जैसे चीतल सांभर अथवा जंगली सूअर का शिकार होने पर इसकी जानकारी किसी को नहीं होती, मांस से लेकर हड्डी तक रातों-रात रफा-दफा हो जाता है।

ओडिशा में होती है मांस की सप्लाई

क्षेत्र में होने वाले शिकार के मांस की सप्लाई सरहदी क्षेत्र ओडिशा में होती है। यहां से मात्र दो किलोमीटर की दूरी पर ओडिशा सीमा लग जाती है और शिकारी इसी का फायदा उठाते हुए रात में ही शिकार करने के बाद मांस लेकर ओडिशा भाग जाते हैं।

वन अमले ने ऐसे अपराध रोकने ठोस प्रबंध नहीं किया, जिससे मूक जानवर बेमौत मारे जा रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020