महासमुंद। मुख्यालय के रेलवे स्टेशन में लगी टिकट वेंडिंग मशीन शो-पीस बनकर रह गई है। लाकडाउन के बाद टिकटों की बिक्री भी बंद होने के बाद ठेकेदार ने मशीन रेलमंडल को हैंडओवर कर दिया है। यही वजह है कि लाखों रुपये की लागत से लगी मशीन स्टेशन की केवल शोभा बढ़ा रही है।

इधर रेल मंडल मशीन को संचालित करने जनरल टिकट की बिक्री शुरु होने की प्रतीक्षा कर रहा है। प्रबंधन का कहना है कि जनरल ट्रेनें शुरु होने के बाद ही इससे यात्रियों को टिकट दिया जा सकेगा, इसलिए रुट में जब तक जनरल ट्रेनें शुुरु नहीं हो पाती तब तक मशीन को शुरु नहीं किया जा सकता। मशीन लगाने का मुख्य उद्देश्य टिकट कांउटर में यात्रियों की भीड़ के दौरान टिकट लेने के लिए होनी वाली परेशानी से राहत पहुंचाना है।

ज्ञात हो कि पिछले वर्ष हुए लाकडाउन के बाद से स्टेशन में लगी टिकट वेडिंग मशीन बंद पड़ी है। मामले में वेंडिंग मशीन के प्रभारी गणपत जोशी का कहना है कि जनरल टिकट की बिक्री शुरु होने के बाद ही वेडिंग मशीनों से भी टिकट बिक्री शुरु किया जाएगा। कोरोना संक्रमण की वजह से अभी यह बंद है जिसके आगामी भविष्य में जल्द शुरु होने की संभावना है।

मंडल ने लगाई दूसरी मशीन

स्टेशन में पहले ही लगी एक मशीन उपयोगविहीन पड़ी हुई है और इधर, मंडल ने दूसरी मशीन लगा दी है। विगत माह मंडल द्वारा यहां पर दूसरी मशीन लगाई गई है। लिहाजा दोनों ही मशीनें स्टेशन की केवल शोभा बढ़ा रही है। बताया जाता है कि जैसे ही स्टेशन में जनरल टिकट की बिक्री शुरु होगी दोनों मशीन शुरु की जाएगी। वेडिंग मशीन बंद होने से रेल मंडल को इससे होने वाले राजस्व का घाटा हो रहा है।

आरक्षण सिस्टम से मिल रही टिकट

कोरोना संक्रमण के बाद से ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों को संक्रमण से बचाने के लिए मंडल ने आरक्षण सिस्टम से टिकट बिक्री का सिस्टम शुरु कर दिया है। लिहाजा कहीं भी सफर करने के पूर्व यात्रियों को पहले सुपर फास्ट व एक्सप्रेस ट्रेन के साथ रुट में चलने वाली जनरल ट्रेन में भी जनरल टिकट के लिए आरक्षण सिस्टम से टिकट खरीदनी होगी जिसके बाद ही उन्हें ट्रेन में सफर करने का मौका मिलेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local