महासमुंद(नईदुनिया न्यूज)।

बुधवार को 22 एनसीसी कैडेट्स अपने सहायक प्राध्यापकों के साथ रक्तदान कर महादान में भागीदार बने। रक्तदान कर उन्होंने संदेश प्रेषित किया कि जिले के युवा कोविड-19 के दौर में भी उन वीरों में शुमार हैं जो अपने नैतिक कर्तव्यों को सर्वोपरि रखते हैं। रक्तदान से किसी की जान बचा सकते हैं। रक्तदान से बाड़ दान नहीं है। जिला स्वास्थ्य से मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को जिला चिकित्सालय में आयोजित विशेष रक्तदान शिविर में शासकीय महाप्रभु वल्लभाचार्य स्नात्कोत्तर महाविद्यायल से बड़ी संख्या में युवा अपने प्राध्यापकों के साथ उपस्थित हुए। सुबह की पाली में सभी के रक्त की जांच की गई। जिनमें से कुल 22 रक्तदान दाताओं को रक्तदान के लिए योग्य पाए जाने पर उनसे महादान लिया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधकारी डा एनके मंडपे की उपस्थिति में आयोजित हुए इस रक्तदान शिविर में ब्लड बैंक बैंक प्रभारी डा विपिन बिहारी अग्रवाल ने व्यवस्थागत प्रबंध किए साथ ही कोविड-19 की सुरक्षात्मक नियमावली का ध्यान भी रखा गया। इस दौरान सबसे पहले कॉलेज के सहायक प्राध्यपकों ने अपनी भूमिका का निर्वहन करते हुए क्रमशः एनसीसी अधिकारी एवं सहायक प्राध्यपक प्रदीप कन्हेर, चमनलाल चन्द्राकर, अजय राजा और सीमा रानी ने रक्तदान किया। जिसके बाद एनसीसी कैडेड कुलदीप जलक्षत्री, मनोज कुमार भोंसले, लक्ष्‌मी पटेल सहित अदिति पाण्डेय सहित कुल 22 रक्तदानदाताओं ने 22 यूनिट रक्तदान कर जिला चिकित्सालय के रक्तभंडार में संग्रहण के लिए योगदान दिया। इस दौरान एमएलटी खिलेश्वर चंद्राकर, एमएल चक्रधारी, कमल सिंह, ओम प्रकाश पटेल, दुर्गा पटेल सहित स्टाफ नर्स दुर्गेश्वरी साहू एवं सहायक मेवालाल साहू का योगदान उल्लेखनीय रहा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस