महासमुंद । विकास कार्र्यों के बकाया भुगतान की मांग को लेकर ग्राम पंचायत सोरिद के पूर्व सरपंच ईश्वर प्रसाद ध्रुव ने 25 मई से जिला मुख्यालय में पटवारी कार्यालय के सामने अपनी छह बेटियों के साथ अनिश्चित कालीन भूख हड़ताल पर हैं। अनशनकारी ईश्वर प्रसाद ध्रुव ने बताया है कि, वे वर्ष 2010 से वर्ष 2015 तक ग्राम पंचायत सोरिद के सरपंच रहे थे। अपने कार्यकाल में उन्होंने जन अपेक्षाओं के अनुरूप विकास के अनेक कार्य करवाये थे जिनमें आंगनबाड़ी भवन, सामुदायिक भवन, दिव्यांग शौचालय तथा मिड-डे मिल के लिये किचन शेड और रंगमंच के कार्य करवाये थे। इसके लिये तीन लाख 48 हजार रुपये का भुगतान उन्होंने खुद किया था। साल 2015 में नवीन पंचायत गठित होने के बाद पूर्व सरपंच ध्रुव को बकाया भुगतान करने के लिये पंचायत सचिव हेमलाल बघेल लंबे समय तक चक्कर लगाता रहा। फिर तत्कालीन महिला सरपंच से मिली भगत कर बकाया राशि का आहरण कर लिया गया और उसे पूर्व सरपंच ईश्वर को न लौटाकर अनाप-शनाप कार्यों में खर्च होना बता दिया । इस मामले में पूर्व सरपंच ईश्वर ध्रुव ने 17 अक्टूबर 2019 को कलेक्टर, सीईओ जिला पंचायत और सीईओ जनपद पंचायत को पत्र प्रस्तुत कर सरपंच सचिव के भ्रष्टाचार की जांच और बकाया तीन लाख 48 हजार रुपये का भुगतान दिलाये जाने की मांग की थी । 17 अक्टूबर 2019 के आवेदन पर कार्यवाही लम्बित रहने से सात मार्च 2020 को ईश्वर ध्रुव ने

पुनः मुख्यमंत्री, पंचायत मंत्री और कलेक्टर से पत्र देकर 17 मार्च 2020 से अपने बूढ़े मा-बाप और 10 बेटियों के साथ अश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठने की घोषणा कर दी। तब नौ मार्च 2020 को ही तत्कालीन जनपद अध्यक्ष भागीरथी चंद्राकर की मौजूदगी में बकाया भुगतान के लिए बनी सहमति के दौरान तत्कालीन सरपंच, पूर्व सरपंच, पंचायत सचिव और पंचायत क्षेत्र के ग्रामीणजन भी मौजूद थे। मगर फिर वही ढाक के तीन पात वाली बात हुई और 15 माह तक भुगतान न मिलने से ईश्वर ध्रुव ने 26 अगस्त 2021 से पुनः भूख हड़ताल पर बैठने का निर्णय लेकर 17 अगस्त को ही मुख्यमंत्री और कलेक्टर आदि को अपने फैसले से अवगत करा दिया। 23 अगस्त को उन्हें अनशन की पूर्व सूचना भी दें दीं। 25 अगस्त को जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, पंचायत इंसपेक्टर, पंचायत सचिव और थाना प्रभारी की मौजूदगी में सरपंच सुशीला गंधर्व और सचिव हेमलाल बघेल द्वारा किए गए गबन की जांच और बकाया भुगतान को लेकर लिखित समझौता होने के बाद ईश्वर ध्रुव ने 26 अगस्त से किया जाने वाला भूख हड़ताल स्थगित कर दिया गया। ईश्वर प्रसाद ध्रुव को बकाया 3.48 लाख में से केवल 1.45 लाख का ही भुगतान प्राप्त हुआ है। शेष बकाया दो लाख तीन हजार रुपये भुगतान मिलने के लिये पूर्व सरपंच ईश्वर ध्रुव ने 25 मई से हड़ताल प्रारंभ कर दिया है। ईश्वर के साथ भूख हड़ताल में उसकी आधा दर्जन बेटियां अनुराधा (20), सभ्यता (18), पूनम (14), लक्ष्‌मी (12), याचना (3),रुपाली (5) तथा एक बालक नीलेश (14) भी हड़ताल में शामिल हैं। अपरान्ह मेडिकल टीम द्वारा पूर्व सरपंच ईश्वर और हड़ताली बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close