महासमुंद (नईदुनिया न्यूज)। खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी बुधवार से शुरू गई है। पहले दिन जिले के 148 धान खरीदी केन्द्रों में 3631 किसानों ने एक लाख छह हजार क्विंटल धान बेचा। जिले में धान खरीदी पूरी पारदर्शिता और नियमों के दायरे के साथ शुरू हुई। धान उपार्जन केन्द्रों में जिला प्रशासन द्वारा समय रहते पूरी तैयारी की गई।

लघु कृषक से 80 प्रतिशत और बड़े कृषकों से 20 प्रतिशत शुरूआत में लिया जाना सुनिश्चित किया गया है। बारदाना कृषकों के लाने पर 25 रुपये की दर से किसानों के खातें में राशि डाला जाएगा। पहले दिन से धान खरीदी शुरू होने पर उपार्जन केन्द्रों में किसानों में अच्छा खासा उत्साह नजर रहा। यही उत्साह गुरुवार को भी दिखा। खरीदी 31 जनवरी तक होगी। जिले में वनाधिकार पट्टाधारी पंजीकृत किसानों की संख्या 3111 है। पिछले बार के 140697 किसानों को भी रिफॉरवर्ड पंजीयन किए गए। इस प्रकार चालू खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में 150642 किसान अपना धान समर्थन मूल्य पर बेचेंगे। वर्तमान में सभी धान उपार्जन केन्द्रों में बारदाना उपलब्ध है।

तिरपाल तैयार रखें: धान खरीदी के बीच बे-मौसम बारिश की भी संभावना हो सकती है। इसलिये समितियां तिरपाल का इंतजाम पहले से कर लें। ताकि किसी भी हालत में समिति स्तर पर किसान का धान नहीं भीगे। जिले के सभी उपार्जन केन्द्रों में किसानों को किसी प्रकार की असुविधा न हो इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। धान उपार्जन केन्द्रों में बिजली, पानी एवं अन्य जरूरी व्यवस्था हो यह सुनिश्चित कर ली गई है।

कलेक्टर के निर्देश पर जिले के सभी एसडीएम को अपने-अपने क्षेत्र के रेंडमली धान खरीदी केन्द्रों में जाकर निरीक्षण भी कर रहें है। धान उपार्जन केन्द्रों में फड़ की सफाई, विद्युत व्यवस्था, स्थायी-अस्थायी फेंसिंग सहित कम्प्यूटर प्रिंटर, कांटा बाट, इलेक्ट्रॉनिक तौल मशीन नाप तौल विभाग से सत्यापन भी कर लिया गया है। धान उपार्जन केन्द्रों में बारदानें का भौतिक सत्यापन अधिकारियों द्वारा किया जा रहा है। धान खरीदी केन्द्रों में बैनर, पोस्टर, दीवार लेखन के माध्यम से समर्थन मूल्य एफएक्यू स्पेसिफिकेशन का प्रदर्शन भी किया गया है। पंजीकृत किसानों की सूची का भी प्रदर्शन हो रहा है। महासमुंद जिले में खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में 11 नवीन धान खरीदी केन्द्र बनाए गए है। जिले में धान खरीदी केन्द्रों की संख्या 138 से बढ़कर 149 हो गई है। जिले के 25 अतिसंवेदनशील धान उपार्जन केन्द्रों में विशेष निगरानी रखी जा रही है। ये हाथी प्रभावित उपार्जन केंद्र हैं। धान का भण्डारण एवं सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local