बागबाहरा। वनांचल स्थित टुहलु सीआरपीएफ 65 बटालियन के जवानों को राखी बांधने बच्चियां पहुंची। प्रदेश के नक्सल प्रभावित इलाकों में जवान दिन-रात सुरक्षा के लिए तैनात हैं। ये जवान क्षेत्र के लोगों को सुरक्षा प्रदान करते हैं जिसके चलते वे खुद मुख्य त्यौहारों में भी अपने घर नहीं जा पाते। अंचल के बच्चे व महिलाओं ने जवानों की कलाइयों में राखी बांधी और तिलक लगाकर मिठाई भी खिलाई। वहीं जवानों ने भी महिलाओं की रक्षा का संकल्प लिया। इस दौरान जवानों के चेहरे में खुशी देखते ही बन रही थी। जवानों को कई मुख्य त्यौहारों में छुट्टी नहीं मिल पाती। ड्यूटी पर तैनात ये जवान अपने परिवार के साथ त्यौहार नहीं मना पाते। टुहलु कैम्प में तैनात जवानों ने रक्षाबंधन मानने के लिए पूर्व तैयारी कर ली थी । बहनों को राखी बाँधने के बाद जवानों ने मिठाई, जलपान व उपहार के साथ विदा किया। ऐसा लग रहा था मानो एक ही परिवार के भाई बहन इस त्यौहार में शामिल हुए है। जवान राखी बँधवाते हुए भावुक हो उठे और उनकी आँखे नम हो गई। अपनी कलाई में राखियां बंधते देख सभी जवान अपने परिवार की याद में खो गए। जवानों को राखी बांधने के पश्चात टुहलु परिसर में पौधारोपण किया गया।

कोसमर्रा स्कूल की छात्राओं ने उत्साह से मनाया पर्व

बागबाहरा । स्कूलों में भाई-बहन के पावन प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान स्कूली बच्चों ने सुंदर राखियां बनाकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। प्राथमिक स्कूल कोसमर्रा की प्रभारी प्रधानपाठक दामिनी हरपाल ने विद्यार्थियों को रक्षाबंधन त्योहार के बारे में विस्तार से जानकारी दी। वहीं मिडिल स्कूल कोसमर्रा के प्रभारी प्रधानपाठक संजय अग्रवाल ने कहा कि यह उत्सव हमारे समाज में सांस्कृतिक रंग भरते हैं व भाईचारे को बढ़ावा देते हैं। यह त्योहार हमें एहसास कराता है कि बदलते समाज में भाई बहन का रिश्ता जो पीछे छूट गया वह कितना महत्वपूर्ण है। हमें उसे बनाए रखना चाहिए। इसलिए हमें अपने सभी त्योहार उत्साह व उल्लास से मनाने चाहिए। ताकि आने वाली पीढ़ी अपनी संस्कृति से जुड़ी रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close