महासमुंद। मेडिकल कालेज की मान्यता के लिए बुधवार को एनएमसी की टीम ने फैकल्टी (चिकित्सा प्राध्यापक) की जांच के लिए सरप्राइज आनलाइन निरीक्षण किया। कालेज प्रबंधन ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए फैकल्टियों का अवलोकन टीम को कराया। दोपहर एक बजे से शुरु हुई फैकल्टियों की जांच की प्रकिया दोपहर तीन बजे तक जारी रही।

दरअसल, दोपहर 12 बजे मेडिकल कालेज प्रबंधन को मेल से फैकल्टियों की जांच के लिए सूचना मिली। जिसमें दोपहर एक बजे से आनलाइन निरीक्षण फैकल्टियों को दिखाने के लिए कहा गया। इसके बाद टीम ने लैपटॉप और वेब कैमरे के माध्यम से अस्पताल और मेडिकल कालेज हाल, क्लास रुम, लैब सहित अन्य सभी का निरीक्षण टीम को कराया और जानकारी दी। इस दौरान मेडिकल कालेज की टीम के साथ अस्पताल प्रबंधन स्टाफ मौजूद रहा। हालांकि निरीक्षण के दौरान टीम ने फैकल्टियों पर संतुष्टि जाहिर की।

88 फीसद फैकल्टी पूरी

जानकारी के मुताबिक प्रबंधन ने कालेज की मान्यता पाने के लिए सौ में से 88 फीसद फैकल्टियों को पूरा कर लिया है और 12 फीसदी ही शेष है। डा. अलखराम वर्मा ने बताया कि मनोरोग विशेषज्ञ और अन्य चिकित्सकों की कमियां हैं जिसे पूरा करना संभव नहीं है, लेकिन प्रयास जारी है। उनका कहना है कि जब टीम ने दो माह पूर्व अवलोकन किया था तो 56 फीसद कमियां फैकल्टियों में बताई गई थी। जिसे दो माह के भीतर पूरा करने का प्रयास किया गया है।

इनकी बताई थी कमियां

निरीक्षण के दौरान टीम ने आपातकालीन वार्ड, ओटी, मेडिकल स्टाफ आदि की कमी बताते हुए इनकी व्यवस्था करने प्रबंधन को निर्देशित किया था। जिसके बाद से प्रबंधन इनकी कमियों को पूरा करने तैयारियों में जुटा हुआ है। आपातकालीन वार्ड के लिए अस्पताल के स्टोर रुम को तैयार किया गया है, जिसमें मरीजों को रखने 30 बेड लगाए गए हैं।

सेंट्रल लाइब्रेरी लाइवलीहुड कालेज में

मेडिकल कालेज की सेंट्रल लाइब्रेरी का आधा हिस्सा लाइवलीहुड कालेज में रखने का निर्णय लिया गया है। इस संबंध में कालेज के अधिकारियो ने बताया कि कालेज का इग्जामिनेशन हॉल, हास्टल, वार्डन क्वार्टर, मेस के साथ-साथ सेंट्रल लाइब्रेरी का आधा हिस्सा यहीं शिफ्ट किया गया है। लाइब्रेरी का आधा हिस्सा यहां होने से विद्यार्थी हास्टल में रहते हुए अपनी पढ़ाई कर सकते हैं। साथ ही मेडिकल कालेज में भी जरुरी किताबों का अध्ययन कर सकते हैं। बताया जाता है कि एनएमसी ने कैम्पस में स्पेस की कमी पर राय दी थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local