महासमुंद। हाथी प्रभावित सिरपुर क्षेत्र में आए दिन हाथियों का दल उत्पात मचा रहा है। कभी फसल बर्बाद कर रहे हैं तो कभी शासकीय संसाधनों को नुकसान पहुंचा रहे है। जनहानि से लेकर धान हानि लगातार इस क्षेत्र में हो रही है। शनिवार-रविवार की रात हाथियों ने जमकर उत्पात मचाया। सनी देओल अभिनीत गदर फिल्म की वह दृश्य ग्राम जोबा के ग्रामीणों को याद आ गया, जिसमें अभिनेता ने हैंडपंप को उखाड़ फेंका है। हाथी ने भी इसी तरह गांव के पास लगे हैंडपंप को उखाड़कर फेंका है।

जानकारी के अनुसार तुमगांव थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम जोबा गांव से कुछ ही दूरी पर मुक्तिधाम के पास शनिवार-रविवार की रात हाथियों ने जमकर उत्पात मचाया। यहां फसल बर्बाद करने के अलावा हाथियों ने हैंडपंप उखाड़ डाला। सुबह लोगों ने हाथियों के पैर के निशान और लीद देखा तो उन्हें हाथियों के उग्र होने का अंदाजा हुआ।

गौरतलब है कि सप्ताहभर पहले ही हाथी ने कुकराडीह बंजर में एक वृद्ध ग्रामीण को मौत के घाट उतार दिया। हिंसक हो चुका हाथियों का दल कुकराडीह बंजर के आसपास ही सक्रिय है। इसी क्षेत्र से लगा गांव जोबा भी है। जहां हैंडपंप उखाड़ने की घटना हुई है।

परिक्षेत्र अधिकारी मोहन दास मानिकपुरी ने उक्त घटना की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि हैंडपंप पंचायत की ओर से लगाया गया था। यहां आसपास मुक्तिधाम है और अंतिम संस्कार के बाद पानी की जरूरत को देखते हुए यहां हैंडपंप लगवाया है, जिसे हाथी ने उखाड़ दिया है। हालांकि यह क्षेत्र गांव की बसाहट से दूर है।

तोड़ दिया वन विभाग का बैरियर

गोमर्डा अभयारण्य क्षेत्र से दो हाथी बीती रात सहसपानी में फसल को नुकसान कर अभयारण्य की कोर सीमा में प्रवेश किया और आगे बढ़ते हुए वन विभाग के बैरियर को तोड़ दिया।

- हाथियों के दल ने जोबा गांव के बसाहट से लगे जंगल क्षेत्र में हैंडपंप उखाड़ा है। घटना सूचना की तस्दीक कराई गई है। हाथियों के मौजूदगी की जानकारी ग्रामीणों को दी जा रही है। - एमडी मानिकपुरी, परिक्षेत्र अधिकारी

पलारी में दो दिन बाद फिर पहुंचे हाथी

पलारी विकासखंड के वन्य ग्रामो में पिछले तीन दिन पहले ही 13 हाथियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी जिससे ग्रामीण दहशत में थे। दो दिन पहले ही ग्राम दतरेंगी घाट से हाथी वापस कसडोल क्षेत्र के बारनवापारा के अभयारण्य में लौटे थे। रविवार को फिर से वही 13 हाथियों का दल फिर उसी रास्ते सुबह लगभग छह बजे दतरेंगी होते हुए ग्राम टेमरी पहुंचा।

वहां कुछ देर रुकने के बाद वे ग्राम बोइरडीह के करीब पहुंच कर वहां से वापस लौटकर ग्राम ओडान और रोहांसी के खार में पहुंच कर अपना डेरा जमा लिया है। ग्राम ओडान के सरपंच प्रतिनिधि जीवन कमल ने बताया कि हाथियों के दल ने उसके ग्राम सुबह छह बजे पहुंचकर किसान हेमंत वर्मा का एक एकड़, नुरेन्द्र, फिरनता कन्नौजे, बहुर सिन्हा, मयाराम सतनामी, समारू सतनामी सहित अनेक किसानों के फसलों को रौंद डाला और नुकसान पहुंचाया। साथ ही ग्राम टेमरी और आसपास के ग्रामों के किसानों की भी फसल खराब हुई है।

Posted By: