पेंड्रा। गौरेला - पेंड्रा- मरवाही में एक दिवसीय प्रवास में पहुंची कोरबा सांसद ज्योत्सना महंत ने पत्रकारों से चर्चा में कहा कि डा. चरणदास महंत राज्यसभा के दावेदारों में नहीं है। उन्होंने इस आगे बढ़ाते हुए कहा जब उनकी मर्जी होगी तब जाएंगे अभी जाएंगे जरूरी नहीं है। उन्होंने जिले में एक भी रेत खदान नहीं होने पर नई खदानों के खोले जाने का आश्वासन दिया।

ज्ञात हो कि राज्यसभा चुनाव के लिए मंगलवार को नामांकन का पहला दिन था। ऐसे में कांग्रेस की ओर से विधानसभा अध्यक्ष डा. चरणदास महंत को राज्यसभा भेजे जाने के कयास पर विराम लग गया है। डा. महंत की पत्नी और कोरबा सांसद ज्योत्सना महंत ने कहा वेे राज्यसभा के लिए दावेदारी नहीं करेंगे। अभी उनकी राज्यसभा जाने की कोई इच्छा नहीं है। अभी छत्तीसगढ; और अपनी जनता की ही सेवा करेंगे। सांसद महंत गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले में मीडिया से चर्चा कर रही थी।

उन्होंने कहा कि डा. महंत के बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। उन्होंने कहा था कि मेरी एक ही इच्छा है कि मैं राज्यसभा सांसद बनने की इच्छा कभी पूरा करूं सकूं। जबकि उस बयान में से कभी को हटा दिया गया। जिससे लगा कि वह राज्यसभा सांसद अभी बनना चाहते हैं। हालांकि सांसद महंत ने यह भी कहा कि जब हमारा मन होगा तब राज्यसभा जाएंगे और कोई जरूरी नहीं है कि अभी जाएं। पत्र वार्ता से पूर्व वे कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिला खनिज न्यास समिति और दिशा समिति की बैठक में शामिल हु। इसमें सांसद महंत अपने बेटे और बेटी के साथ शामिल होने के लिए पहुंची थी।

18 करोड़ 45 लाख की कार्य-योजना का अनुमोदन

जिला खनिज संस्थान न्यास की शासी परिषद की बैठक में वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए 18 करोड़ 45 लाख रूपए की कार्य-योजना का अनुमोदन किया गया। कलेक्ट्रेट के अरपा सभाकक्ष में आयोजित परिषद की बैठक में लोकसभा सासंद कोरबा ज्योत्सना महंत, लोकसभा सांसद बिलासपुर अरुण साव ने शिक्षा, स्वास्थ्य एवं पेयजल को उच्च प्राथमिकता से पूर्ण करने के निर्देश दिए।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close