सीपत। नईदुनिया न्यूज

हिंदी दिवस के अवसर पर एनटीपीसी सीपत ऑडिटोरियम में कवि सम्मेलन आयोजित किया गया। सर्वप्रथम मां सरस्वती व गणेश की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ववलित कर वंदना के बाद काव्य पाठ किया। सम्मेलन में पद्मश्री डॉ. सुरेंद्र दुबे, डॉ विष्णु सक्सेना, सुदीप भोला, अनिल मिश्र ,कवियत्री गौरी मिश्रा आदि कवियों ने अपनी काव्यपाठ, गीत गजल, हास्य व्यंग्य से द्वारा आधी रात तक दर्शकों को जमकर गुदगुदाकर लोटपोट किया। सम्मेलन का संचालन कर रहे पद्मश्री डॉ सुरेंद्र दुबे ने कहा कि बेटियों से बड़ी इस दुनिया मे कोई भी ताकत नहीं हो सकती। बेटी चाहे कहीं भी रहे लेकिन मां बाप से हमेशा जुड़ी रहती है। उन्होंने कहा कि कवि सम्मेलन का मकसद केवल मनोरंजन नहीं बल्कि इसमें संदेश और संस्कार भी सिखाया जाता है। संस्कृति का विकास व्यक्ति के उत्तम संस्कारों से होता है। कवियों ने अपने काव्यपाठ से छत्तीसगढ़ की संस्कृति, सुरक्षा पर तैनात जवान पर भी व्यंग्य कर जमकर तालियां बटोरी। इसके बाद एनटीपीसी प्रबंधन ने कवियों को शाल व स्मृति चिन्ह देकर समानित किया। इस अवसर पर एनटीपीसी समूह के महाप्रबंधक राजशेखरन पदम कुमार, पीआरओ के बीपी साहू सहित सभी अधिकारी कर्मचारियों का विशेष योगदान रहा।