करगीरोड-कोटा(नईदुनिया न्यूज)। नगर पंचायत कोटा की एक बड़ी आबादी स्टेशन के उस पास रहती है। यहां के लोग स्टेशन को पार कर आते जाते हैं। रेलवे ट्रेक में ट्रेनों के रहने पर उसके नीचे से आते जाते हैं। सबसे अधिका परेशानी स्कूली बच्चों को उठानी पड़ती है। लोग वर्षों से स्टेशन के इस पार से उस पार तक ओवर ब्रिज की मांग करते रहते हैं परंतु स्टेशन में प्लेटफार्म नंबर दो तक ही ओवर ब्रिज है इसके बाद चार रेलवे ट्रेक है।

इससे पूर्व कोटा के निरंजन केशरवानी महाविद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं ने ओवरब्रिज निर्माण की मांग की थी। वर्तमान समय में करगीरोड-रेलवे स्टेशन की हालत पहले से भी काफी दयनीय स्थिति में है। रेलवे-ओवरब्रिज के निर्माण नहंी होने से कालेज में पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं जान हथेली पर रखकर रेल की पटरी को पार करके कालेज पहुंचते है। प्रतिदिन स्टेशन में 11-12-बजे से वे आते जाते हैं। इन्हें सब कारण से नगर संघर्ष समिति द्वारा 13 सितंबर से लेकर 14 दिसंबर 2021 तक धरना प्रदर्शन कर रेल रोको आंदोलनत किया गया था। अब फिर से नगर के लोग इसे लेकर आंदोलित हैं। कुछ छात्र-छात्राएं समझदारी दिखाते हुए मालगाड़ियों सहित अन्य ट्रेनो के गुजरने के बाद ही गुजरते हैं। इससे दुर्घटना होने की पूरी संभावना बनी रहती है। ज्ञात हो कि स्टेशन में आरपीएफ जवान नहीं रहतेे हैं । कभी रहने पर बीच-बीच में मनाही भी करते हंै।कोयले से भरी मालगाड़ियों का करगी रोड स्टेशन में खड़ी करने से समस्या आती है। रेलवे ट्रेक के नीचे से आने के कारण कई बार बड़ी दुर्घटना होते होते बच गई है।

एक्सप्रेस ट्रेनों की ठहराव नहीं होने से यात्री परेशान

नगर के रेल यात्री के सदस्यों ने एक्सप्रेस ट्रेनों की ठहराव शुरू करनेे की मांग की है। इसे लेकर आंदोलन किया गया था। जैतहरी-चंदिया रोड मध्यप्रदेश में ट्रेनों की ठहराव के लिए उग्र आंदोलन के बाद बिलासपुर-इंदौर,बिलासपुर-भोपाल,, रीवा-बिलासपुर स्टेशन में ठहराव के अनुमोदन के पत्र जारी होने के बाद भी कुछ उम्मीद जागी। लोगों की परेशानी को देखते हुए सांसद व बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव ने रेलमंत्री अश्वनी वैष्णव व कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर से मुलाकात के दौरान पुन:से ट्रेनों के ठहराव को लेकर मांग उठाई है। ज्ञात हो कि यात्री ट्रेन इस इलाके की लाइफ लाइन है। बावजूद वर्तमान सांसद को केंद्र सरकार सहित रेलवे बोर्ड कोई तवज्जो नहीं दिया जा रहा है। इसे लेकर लोग बार फिर से आंदोलन करने की मन बना रहे हैं। उनका कहना है कि सबसे अधिक राजस्व देनेे के बाद यात्री सुविधा नहीं है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close