रतनपुर। नईदुनिया न्यूज

सरदार वल्लभभाई पटेल महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, महान वकील, राजनेता और संगठक थे। देश के एकीकरण में उनका बहुत बड़ा योगदान था। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रतनपुर में सरदार वल्लभ भाई पटेल जयंती समारोह और कुर्मी महाधिवेशन में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कही।

रतनपुर के महामाया मंदिर परिसर में कुर्मी क्षत्रिय चेतना मंच द्वारा आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बघेल ने समाज में केवल रोटी और बेटी की बात होती है। यह हमारे समाज के पिछड़ेपन का प्रमुख कारण है। इनके अलावा शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार आदि की बातें भी होनी चाहिए । राजनैतिक उत्थान की बातें होनी चाहिये। क्योंकि राजनैतिक उत्थान से समाज का उत्थान होता है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में 2500 रुपए क्िवटल धान खरीदी और ऋण माफी से किसानों का जीवन स्तर सुधर गया है। आज जिनके पास पंखा नहीं था, उनके पास पंखा है। जिनके पास पंखा था, उसने कूलर लगा लिया है। कूलर वाले एसी लगा रहे हैं और साइकिल वाले मोटर साइकिल, कार ले रहे हैं। देश में मंदी है, लेकिन छत्तीसगढ़ में नहीं है। उन्होंने छत्तीसगढ़ के स्वप्नदृष्टा डॉ.खूबचंद बघेल का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य का सपना देखा था। उनका सोचना था कि राज्य बनने से छत्तीसगढ़िया लोगों के हिसाब से नीति बनेगी। उनके हिसाब से बजट तय होंगे और छत्तीसगढ़ के संसाधनों का लाभ मिलेगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ.निर्मल नायक ने की। कार्यक्रम में स्वागत भाषण लक्ष्मी कुमार गहवई ने दिया। कुर्मी समाज की मांग पर मुख्यमंत्री ने बिलासपुर में उन्नत कौशल प्रशिक्षण संस्थान निर्माण के लिए ढाई एकड़ जमीन आबंटित करने के साथ ही रतनपुर में सरदार वल्लभ भाई पटेल के नाम पर भव्य भवन बनाने के लिए 50 लाख रुपए स्वीकृत करने की घोषणा की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने उल्लेखनीय कार्य करने वाले कुर्मी समाज के वरिष्ठ नागरिकों को सम्मानित किया। पूर्व राज्यसभा सांसद रामाधार कश्यप को शिखर सम्मान से नवाजा गया। कार्यक्रम का शुभारंभ सरदार वल्लभभाई पटेल, डॉ.खूबचंद बघेल, छत्रपति शिवाजी आदि महापुरुषों के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन से हुआ। छत्तीसगढ़ का राजगीत अरपा पैरी की धार पर लोगों ने अपने स्थान पर खड़े होकर राजगीत के प्रति सम्मान प्रकट किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री को हल भेंटकर सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री ने कुर्मी समाज की पत्रिका चेतना के स्वर और कुर्मी चेतना जागृति स्मारिका का विमोचन किया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ के महाधिवक्ता सतीशचंद्र वर्मा, जनपद पंचायत बिल्हा की अध्यक्ष गीतांजली कौशिक, पूर्व विधायक बैजनाथ चंद्राकर, पूर्व महापौर किरणमयी नायक, प्रमोद नायक, बाल संरक्षण आयोग के सदस्य दिलीप कौशिक, सुखदेव कश्यप, समाजसेवी मनोहर लाल चंदेल सहित कुर्मी समाज के पदाधिकारी और सदस्य बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

भाजपा को लिया आड़े हाथ

मुख्यमंत्री बघेल ने दौरान उन्होंने अपनी चिर परिचित अंदाज में छत्तीसगढ़ी में भाषण देते हुए भाजपा को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कश्मीर से 370 हटाया और श्रेय ले रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। 370 हटाने का श्रेय किसको जाना चाहिए। गृह मंत्री अमित शाह को जाता है या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह सवाल भाजपा के लोगों से पूछा जाए। श्रीराम मंदिर बनाने का रास्ता प्रशस्त हुआ है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले पर दिया है लेकिन श्रेय लेने से इन्हें जरा भी गुरेज नहीं है।

Posted By: Nai Dunia News Network