रतनपुर। नईदुनिया न्यूज

मंगला गौरी मंदिर धाम शंकराचार्य आश्रम पोड़ी में क्वांर नवरात्रि पर्व 29 सितंबर से सात अक्टूबर तक मनाई जाएगी। इसकी तैयारी मंदिर में शुरू हो गई है।

उल्लेखनीय है कि मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा ,गोवर्धनमठ पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती के कर कमलों से हुआ। मंदिर के प्रथम तल में माता मंगलागौरी की गर्भगृह है। माताजी नंदी पर सवार है। दूसरे तल में आदिगुरु शंकराचार्य की मंदिर है जो भारत देश मे पहली बार स्थापित किया गया है। मंदिर के श्रीमहंत एवं आचार्य पं. रमेश शर्मा ने बताया कि नवरात्रि पर्व में देश विदेश के श्रद्घालुओं का मनोकामना ज्योति कलश प्रज्वलित किया जाता है तथा मंगल ज्वारा भी स्थापित किए जाते हैं। बाहर से आने वाले श्रद्घालुओं को वर्ष भर भोजन एवं विश्राम की व्यवस्था है। मंदिर परिसर में छह कमरे और एक हाल है जिसे ठहरने के अलावा शादी एवं अन्य मांगलिक कार्यों के लिए निःशुल्क दी जाती है। ब्राह्मणों द्वारा शास्त्र सम्मत ढंग से पूजा एवं हवन कराई जाती है। नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का पाठ, दुर्गा सहस्त्र नाम पाठ, कनकधारा ,श्रीसुक्त, श्रीमद् देवी भागवत पुराण पाठ सहित अन्य अनुष्ठान होंगे। प्रतिवर्ष की जसगीत प्रतियोगिता रखी गई है। स्पर्धा आठ बजे से है। इसमें प्रथम पुरस्कार 3001 रुपए, द्वितीय 2001 ,तृतीय 1001रुपए एवं सभी गायन मंडली को सांत्वना पुरस्कार दिया जाएगा।