गौरेला। नईदुनिया न्यूज

मृतकों के नाम से राशन का उठाव करने के आरोप में जिस समूह का एसडीएम ने दुकान का संचालन निरस्त किया था। वहां फिर से इन हितग्राहियों के नाम पर राशन का उठाव हो रहा है ।

ग्राम पंचायत सारबहरा के शासकीय उचित मूल्य का संचालन जय मां अन्नापूर्णा महिला स्व सहायता समूह द्वारा किया जा रहा था। जिस पर ग्रामीणों ने आरोप लगाया था कि उसके द्वारा मृतकों के नाम से राशन का उठाव किया जा रहा है। इसी सार्वजनिक वितरण प्रणाली नियंत्रण आदेश का उल्लंघन एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत दंडनीय मानते हुए एसडीएम ने 2 अप्रैल को विक्रेता चंदन अग्रवाल एवं समूह की अध्यक्ष निर्मला रजक को कारण बताओ नोटिस जारी कर 6 अप्रैल तक जवाब मांगा था। जिसके बाद 8 अप्रैल को इस दुकान को तत्कालीन एसडीएम ने निरस्त कर दिया था। वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में अन्य पंचायत के विक्रेता को दुकान का संचालन सौंपा था। जहां आज भी इन मृतकों के नाम से अलग-अलग महीनों अप्रैल-मई जून एवं जुलाई में राशन का उठाव हो रहा है प्रार्थी चंदन अग्रवाल ने 12 जून को इस गड़बड़ी की शिकायत कलेक्टर से की थी पर तीन माह बाद भी कार्रवाई नहीं की गई। उसके अनुसार सुमन बाई, लमिया बाई पति कुंवारे, गणपतिया पति सेमलाल एवं नारायण, सीता, देवी प्रसाद समेत अन्य लोगों के नाम पर अप्रैल-मई का राशन उठाया गया है । वहीं मृतकों के राशन कार्ड का नवीनीकरण भी कर दिया गया है। इस संबंध में खाद्य अधिकारी नटवर राठौर का कहना है कि पूर्व में संचालित हो रहे दुकान पर जिस आरोप में कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए निरस्त किया गया था उन सभी मृतकों का नाम वर्तमान में कैसे जुड़ा और उनका राशन कार्ड का नवीनीकरण कैसे हो गया। इसकी जांच कराई जाएगी। पूर्व में हुई कार्रवाई में विक्रेता चंदन अग्रवाल ने आरोप लगाया कि खाद्य निरीक्षक अधिकारी के द्वारा उनके साथ हाथापाई भी की गई और द्वेषपूर्ण रूप से यह कार्रवाई की गई जबकि अगर पूर्व में उक्त व्यक्तियों के नाम के कारण जब समूह निरस्त हुआ तो बिना दस्तावेजों की जांच किए ही कार्रवाई की गई । इसकी लिखित शिकायत विक्रेता चंदन अग्रवाल ने कलेक्टर, एसपी व एवं गृह मंत्रालय छत्तीसगढ़ से की है।

इस संबंध में जानकारी मिली है। इस पर जांच कराने के बाद ही सब कुछ बता पाऊंगा ।

डिकेश पटेल एसडीएम पेंड्रारोड

अगर किसी व्यक्ति की कोई शिकायत है तो वह लिखित में शिकायत करें। मैं उस पर जांच कर उचित कार्रवाई करूंगा ।

नटवर राठौर खाद्य निरीक्षक पेंड्रारोड

-