हांफा। नईदुनिया न्यूज

प्रहासन के कहने को तो ग्रामीण क्षेत्र में मूलभूत सुविधाए उपलब्ध होने के दावे भरपूर किये जाते है लेकिन अभी भी कई एैसे गॉव है जहॉ सड़क के नाम पर सिर्फ किचड़ से लथपथ पगडंडी ही है जिससे लोग बसर कर रहे है वही एैसे सड़क पर चलकर लोग चोटिल भी हो रहे है लेकिन इनकी सूध लेने वाला कोई नही है।

तखतपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत घोघाडीह के आदिवासी मुहल्ला का सड़क बदहाल है । पानी निकासी की सुविधा न होने के कारण सड़क में जमा गंदा पानी व कीचड़ के बीच चलना ग्रामीणों की मजबूरी हो गई है। इसके चलते लोग फिसलकर गिर रहे है। स्थिति यह है कि किसी को अस्पताल ले जाना होता है तो खाट में सुलाकर रास्ते को पार करना पड़ता है। ग्रामीणो की माने तो इस सड़क को बनाने के लिए स्थानीय स्तर पर सरपंच से ग्रामीणो ने कई बार गुहार लगाई है लेकिन आज तक इस सड़क को नही बनाया गया ।यहां अधिकांशत आदिवासी समाज के लोग रहते है। वही कई बार स्कूल जाने के दौरान फिसलकर गिरने से बच्चों के स्कूल ड्रेस खराब हो जाते है। मुहल्ले के बुजुर्गो का कहना है कि उनकी उम्र अधिक हो गई है वो मुहल्ले से बाहर घूमने-टहलने के लिए जाना चाहते है लेकिन कीचड़ अधिक होने और गिरने के डर के कारण वो सिर्फ घर के बाहर बैठकर अपना वक्त काटते है। ग्रामीणो के मुताबिक घर में जब कोई मेहमान आने वाला होता है तो फावड़ा से सड़क का कीचड़ हटाया जाता है। ग्रामीणो का कहना है कि वो सड़क जैसे मूलभूत सुविधा से वंचित है इसके लिए स्थानीय पंचायत प्रतिनिधि जिम्मेदार है।

शिकायत के बाद भी जनप्रतिनिधि उदासीन

ग्रामीणों को इस बात की शिकायत है कि वे अपनी समस्याओं को लेकर कई बार जनप्रतिनिधियों से मुलाकात कर अपनी परेशानी बताकर इसके निराकरण की मांग कर चुके है । इसके बाद भी वे उनकी समस्याओं का निराकरण नहीं कर रहे हैं। इसे लेकर लोगों में आक्रोश है।

वर्जन

मुख्यमंत्री समग्र विकास योजना अंर्तगत उक्त सडक के लिए 7,60,000 रुपए स्वीकृत भी की लेकिन पंचायत की बैठक में पंचो ने उक्त निर्माण के लिए प्रस्ताव ही नही किया। जिसके कारण राशि लेप्स हो गई। ग्राम पंचायत में बहुमत नही हैं बार-बार पंचो से निवेदन के बावजूद भी उनके द्वारा इस सडक के लिए सहमति नही दी गई इसलिए ये समस्या बनी हुई है।

- सीताराम यादव सरपंच ग्राम घोघाडीह

सरपंच द्वारा पूरे एक साल में सिर्फ एक बैठक आयोजित की गई है। उनकी निष्क्रियता के कारण उक्त सड़क नही बन पा रही है।

- प्रकाश बंजारे पंच घोघोडीह

-