बेलगहना। श्रीसिद्ध बाबा अद्वैत परमहंस आश्रम बेलगहना के स्वामी शिवानंद चित्रकूट धाम दर्शन करने पहुंचे ।

उन्होंने इस दौरान कहा कि भगवान श्रीराम वनवास काल में यहां 11 वर्ष छह माह तक मां मंदाकिनी गंगा स्नान और शिव अराधना किए। उन्होंने इसके महत्व के बारे में बताया। उनके आगमन पर चित्रकूट धाम ट्रस्ट की ओर से अभिनंदन किया गया। आचार्यों ने महाआरती और श्रीगणेश की पूजा में शामिल हुए। उन्होंने इसके बाद भरत कूप का दर्शन किए जहां बताया कि भरत जी संपूर्ण विनय केे बाद भी जब भगवान श्रीराम अयोध्या नहीं लौटे तो उनके राजतिलक केलिए सभी देवताओं द्वारा सभी तीर्थों का जल जो भरत जी श्रीराम भगवान के राजतिलक करने के लिए लाए थे उसे 14 वर्ष तक के लिए इसी कूप में संरक्षित किया था इसलिए इसे भरत कूप के नाम से जाना जाता है। साथ ही उन्होंने गुप्त गोदावरी दर्शन किए। गुप्त गोदावरी की मान्यता भगवान श्री राम के वन आगमन का विधान देवताओं को पहले से ही पता था इसीलिए भगवान विश्वकर्मा ने स्वयं इस दिव्य गुफा का निर्माण किया मां गोदावरी नासिक से स्वयं यहां प्रकट हुई।

उच्च शिक्षा प्राप्त कर देश की करें सेवा: शुक्ला

दगौरी। जीवन में पढ़ाई की भूमिका अति महत्वपूर्ण है। उच्च शिक्षा प्राप्त कर देश की सेवा करें। उक्त बातें स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय चकरभाठा में शाला प्रवेश उत्सव कार्यक्रम में कांग्रेस नेता राजेंद्र शुक्ला ने कही। उन्होंने छात्र छात्राओं को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा पढ़ाई का समय फिर से लौटेगा नहीं इसलिए नियमित रूप से पढ़ाई करें।इस अवसर पर प्रमुख अतिथियों में शाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष राम आर्या, शाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष परदेशी ध्रुवंशी, नगर पंचायत बोदरी के अध्यक्ष मनोज वर्मा एल्डरमैन, आदि उपस्थित रहे। सर्वप्रथम अतिथियों का मयूरिका पांडेय एवं रिचा ताम्रकार द्वारा स्वागत किया गया। कार्यक्रम में वरिष्ठ व्याख्याता सतीश तिवारी, वरिष्ठ व्याख्याता वेदप्रकाश साहू, शिक्षक आशुतोष पांडेय , प्राथमिक शाला प्रधान पाठक मुबस्सीर अहमद , दुष्यंत रजक सहित अन्य उपस्थित रहे।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close