नारायणपुर। सहस्त्र फाउंडेशन नारायणपुर की ओर से 20 मई को रायपुर के सयाजी होटल में महिलाओं के सम्मान में आधी रोटी पूरी जिम्मेदारी विषय पर परिचर्चा आयोजित की गई। वक्ताओं ने कहा कि अब लड़कियों की शिक्षा बहुत अच्छी हो रही है और वे हर क्षेत्र में परचम लहरा रही हैं।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा किरणमयी नायक थीं। अध्यक्षता नील कंठ टेकाम वरिष्ठ आइएएस ने की। मुख्य अतिथि ने कार्यक्रम में बताया कि महिलाओं के घरेलू हिंसा, प्रताड़ना और असमानता के सैकड़ों केस महिला आयोग में आते हैं जो यह बताता है कि महिलाओं के प्रति आज भी भेदभाव जारी है। लेकिन धीरे धीरे तस्वीर बदल रही है। इसके लिए महिलाओं को स्वयं पहल करनी होगी और इसकी शुरूवात अपने अपने घरों में बेटे और बेटियों की परवरिश एक जैसे करनी होगी। उन्होंने महिलाओं को आह्वान करते हुए कहा कि उन्हें अपने मन से डर निकाल देना चाहिए और उन्हें कोई डरा या सता नहीं सकता है, इन बातों को बच्चियों के मन में बचपन से ही डाला जाए तो कभी भी किसी महिला को कोई परेशान नहीं कर सकता और उस महिला का आत्म विश्वास कभी भी कम नहीं होगा।

कार्यक्रम के अध्यक्ष नीलकंठ टेकाम ने बताया कि कानून में महिलाओं के अधिकारों के सरंक्षण के लिए कई प्रावधान किए गए हैं, महिलाएं इन्हे अपनाकर न सिर्फ प्रताड़ना से बच सकती है, बल्कि सशक्त होकर आगे भी बढ़ सकती हैं। उन्होंने संस्था सहस्त्र फाउंडेशन से कहा कि इस तरह के आयोजन निचले या ग्रामीण स्तर पर भी करें जिससे इसका सकारात्मक प्रभाव प्रत्यक्ष रूप से देखने को मिलेगा।

कार्यक्रम में आए मनीषा थरवानी ने कहा कि अब लड़कियों की शिक्षा बहुत अच्छी हो रही है और लड़कियां हर क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही है। उन्होंने आगे कहा कि महिलाओं में अब आत्मविश्वास और जागरूकता आ गई है। कार्यक्रम में महिला डाक्टर रश्मि और सहस्त्र फाउंडेशन के मैनेजिंग ट्रस्टी अजय देवांगन उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close