अम्बिकापुर। रायग़ढ़ से व्यावसायिक वसूली करने सूरजपुर पहुंचा पेपर कंपनी का मुनीम स्थानीय बस स्टैंड में उठाई गिरी का शिकार हो गया। लघु शंका करते वक्त उठाईगिरों ने लगभग 2 लाख रुपए नगद राशि से भरा थैला पलक झपकते ही पार कर दिया।

इस संबंध में उठाई गिरी के शिकार हुए मुनीम चरणदास रामटेके ने बताया कि वह नियमित की तरह सोमवार को भी सूरजपुर में व्यवसायिक कार्य से आए थे, यहां वे पेपर से निर्मित कॉपियों व अन्य सामग्रियों का आर्डर लेने और भुगतान प्राप्त करने का काम करते हैं। नित्य की भांति आज भी उन्होंने सूरजपुर की 3 - 4 प्रतिष्ठानों में व्यवसायिक वसूली की और फिर बस स्टैंड में पुस्तक भवन के समीप लघुशंका के लिए चले गए।

लघु शंका के दौरान नोटों से भरा थैला उन्होंने पास में ही रख दिया था और जैसे ही वे लघु शंका कर लौटे तो नोटों से भरा थैला गायब हो चुका था। उसे माजरा समझते देर नहीं लगी और उन्होंने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी।

पुलिस ने सूचना मिलते ही आसपास के व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज निकाली और पतासाजी में जुट गए। सीसीटीवी फुटेज में आरोपितों का न तो चेहरा स्पष्ट है और न ही वाहन क्रमांक ही अंकित है, जिससे आरोपियों तक पहुंचने में पुलिस को काफी दिक्कत हो रही है।

दो बाइक में सवार थे चार युवक

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने जो सूचना संग्रहित की है उसके तहत दो मोटरसाइकिल में चार युवक संदिग्ध रूप से नजर आ रहे हैं। जिन्होंने नवापारा मुहल्ले से मुनीम का पीछा करना शुरू किया था और मौका देख कर बस स्टैंड में उठाई गिरी की घटना को अंजाम दे दिया। युवक उठाईगिरी के बाद कहां गए यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। पुलिस द्वारा सभी मार्गों में लगे सीसीटीवी कैमरे की पड़ताल शुरू कर दी है।