सारंगढ़। (नईदुनिया न्यूज)

वैश्विक महामारी कोविड 19 के कारण हो रहे परिवर्तनों का व्यापक प्रभाव शिक्षा पर पड़ा है। कोरोना के संक्रमण की आशंका के कारण अभी भी शैक्षणिक संस्थानों के खुलने के संबंध मे संशय बनी हुई है। ऐसे में बधाों की पढ़ाई-लिखाई को जारी रखना बड़ी चुनौती है। कोरोना महासंकट ने हमारी सोच एवं संवेदना को ही नहीं बदला है अपितु हमारा सम्पूर्ण जीवन शैली को बदल दिया है। सामुदायिक व्यवहार में इस समय संयम, स्वविवेक, सादगी और अनुशासन को अमल में लाने का अवसर दिया है। कोरोना से जंग के दौरान कई सकारात्मक सीख भी मिले हैं। यह उद्यार जिला शिक्षा अधिकारी आर पी आदित्य ने शासकीय बहु उधातर माध्यमिक विद्यालय सारंगढ़ में विकासखंड स्तरीय विभागीय प्राचार्य एवम संकुल शैक्षिक समंवयकों की बैठक में कही।

उन्होंने प्राचार्य और समन्वयकों से कहा कि राज्य सरकार और स्कूली शिक्षा विभाग के द्वारा शिक्षकों के स्व प्रेरणा व स्वैच्छिक प्रयास से किए जा रहे असाधारण कार्यों के कारण प्रदेश के तमाम सरकारी विद्यालयों के बधाों को पढ़ाई तुंहर दुआर के अंतर्गत विविध शैक्षिक गतिविधियों का एक असरदार और व्यापक मंच मिला है। बधाों को उनके घरों की दहलीज पर समुचित ज्ञान मिल रहा है। कोरोना संकट के इस दौर में शैक्षणिक संस्थानों के आगे जो चुनौती है, उसमे आनलाइन और आफलाइन एक स्वभाविक विकल्प है। शिक्षा विभाग की अनूठी पहल और ज्ञान पोर्टल के नाम से मशहूर पढ़ाई तुंहर दुआर के माध्यम से विद्यालय और समुदाय के बीच बेहतर समन्वय स्थापित कर अधिक से अधिक आनलाइन और मोहल्ला क्लास का आयोजन करें जिसका ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थियों को लाभ मिले।

आप सबकी कठिन मेहनत का परिणाम है कि रायगढ़ जिला पूरे प्रदेश मे अव्वल है। अब तक हमने बधाों को जो भी शिक्षा दिए हैं, उनका आंकलन किया जाना है। सभी बधाों का शत प्रतिशत आंकलन हो ये बात सभी सुनिश्चित करें। कोई भी बधाा इस आंकलन से न छूटे और किए जा रहे आंकलनो को शैक्षिक पोर्टल में अनिवार्यता से पंजीकरण करें। स्थानीय स्तर पर बधाों की आंकलन सम्बधी सारी जानकारियां पंजी मे भी अवश्य संधारित करने के लिए निर्देशित किया गया। उन्होंने सरस्वती सायकल योजना, निशुल्क पुस्तक वितरण, छात्रवृत्ति, गणवेश आदि सरकार के द्वारा संचालित सभी जन कल्याणकारी योजनाओं की व्यापक समीक्षा करते हुए कहा कि इन सभी योजनाओं का लाभ हर जरूरतमंद को मिले ये सुनिश्चित करने का निर्देश दिए। उन्होंने सभी प्राचार्यों और समन्वयकों को निर्देशित करते हुए कहा कि चाही गयी विभागीय जानकारी समयसीमा मे उपलब्ध कराए ये हर सम्भव प्रयास करें।

समीक्षा बैठक में जिला मिशन समन्वयक आरके देवांगन, विकासखंड शिक्षा अधिकारी आरएन सिंह, सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी द्वय आरके डोंगरे, सोमा सिंह ठाकुर, वरिष्ठ लिपिक भारती,, मध्या- भोजन प्रभारी पंकज साहू और विकासखंड के स्कूलों के प्राचार्य और शैक्षिक समन्वयक उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस