रायगढ़। नईदुनिया प्रतिनिधि

ईस्ट रेल कारीडोर पर कोयला लेकर पहली ट्रेन रवाना हो गई है। शनिवार को एसईसीएल एवं रेलवे के अफसरों ने सादे कार्यक्रम में कारीछापर में कोयला से लोड मालगाड़ी की 2 रैक को रवाना किया और अब हर दिन 2 मालगाड़ी इस रूट पर चलाई जाएगी।

रेल करिडोर की पहली लाइन खरसिया-कारीछापर के बीच ट्रेन की शुरूआत शनिवार से हो गई। इस ट्रेन के जरिए फिलहाल 8 हजार मीट्रिक टन कोयले का परिवहन किया जाएगा। रेलवे सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार खरसिया-कारीछापर के बीच शुरू हुई पहली लाइन में आज कोयले का पहला रैक विद्युत कंपनी मड़वा पावर प्लांट और दूसरा रैक एनटीपीसी पावर प्लांट को भेजा गया है। शुरूआती कुछ दिनों तक इस लाइन में सिर्फ दो रैक चलाया जाएगा। खरसिया और कारीछापर के बीच 44 किलोमीटर लंबी दोहरी लाइन बिछायी गई है। हालांकि अभी रेल परिचालन के लिए सिंगल लाइन की अनुमति दी गई है। छत्तीसगढ़ ईस्ट रेलवे करिडोर लिमिटेड के अधिकारियों ने बिना किसी तामझाम के टेस्टिंग के आधार पर मालगाड़ी का परिचालन प्रारंभ कर दिया। कारीछापर से रोज दो रैक कोयला परिवहन किया जाएगा। ज्ञात हो कि ये खरसिया-करिछापर के बीच बनी लाइन धरमजयगढ़ तक बढ़ाया जाना प्रस्तावित है। खरसिया से धरमजयगढ़ के बीच यात्री ट्रनों के परिचालन के लिए 6 स्टेशन गुरदा, छाल, घरघोड़ा, कारीछापर, कुडुमकेला और धरमजयगढ़ पड़ेंगे। करीब 74 किलोमीटर की इस लाइन पर 7 बड़े और 90 छोटे ब्रिज बनाए गए हैं। कारीडोर के अधिकारियों ने संकेत दिए हैं कि आने वाले साल में मार्च महीने तक इस लाइन पर यात्री ट्रेनें भी शुरू हो सकती है।