रायगढ़। जिले में हाथियों के दल के जंगल से निकलकर सड़क में आ जा रहे हैं और गांव में घुसकर खेतों में फसल को चट कर रहे हैं और लोगों को मार रहे है। लगातार कट रहे जंगल के कारण आलम यह है कि जंगल मे हाथी मृत हो रहे है तो कभी आमजन इनका शिकार बन रहे है। ऐसे ही घटना में टेंडा नावपारा मेंला में आयोजित कबड्डी प्रतियोगिता में जीतकर रात को घर आ रहे खिलाड़ी का सामना हाथी से हो गया। विजेता खिलाड़ी हाथी के डर में जान बचाने के लिए बाइक से कूदकर भाग कर जान बचाने का प्रयास किया किन्तु हाथी ने उसे दौड़ाकर कुचल दिया जिससे उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि उसका मित्र वाहन चालक किसी तरह बचने में सफल हुआ।

जानकारी के मुताबिक टेंडा नवापारा में लक्ष्मी पूजा के उपलक्ष पर मेले का आयोजन किया गया था। जिसमे कबड्डी की प्रतियोगिता भी रखी गई थी । वही ग्राम नगोई निवासी जितेन्द्र (20) पिता संतोष राठिया भाग लेने गया था। जितेन्द्र दो भाइयों में छोटा है। वह अपने ग्रामीणों के साथ खेलने के लिए गया था। वह कबड्डी खेलने के उपरांत अपने सहपाठियों के साथ मोटरसाइकिल से वापस घर आ रहा था । जितेन्द्र सहपाठी मोटरसाइकिल चला रहा था तथा जितेन्द्र मोटरसाइकिल की पिछली सीट पर बैठा था वापसी के दौरान ग्राम पंचायत भेंगारी के आश्रित ग्राम चारमार में सड़क पर हाथी को सामने आता देख जितेंद्र राठिया डरकर मोटरसाइकिल की पिछली सीट से कूदकर हाथी से अपनी जाने उतर गया जबकि मोटरसाइकिल सवार उसका सहपाठी युवक किसी तरह हाथी से बच निकला। इस दौरान जितेंद्र राठिया को हाथी ने दौड़ाकर कुचल डाला जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। रात में ही घटना की जानकारी ग्रामीणों द्वारा वन विभाग को दी गई तथा जानकारी पाकर रात में ही मौके पर विभाग का अमला पहुंचा और जांच-पड़ताल में जुट गई है। वही परिजन भी जानकारी पाकर घटनास्थल मौके पर पहुंच गए थे। वन विभाग द्वारा मृतक का पोस्टमार्टम उपरांत दाह संस्कार के लिए शव परिजनों को सौंपा गया।

--------------

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close