रायगढ़ (नईदुनिया न्यूज)। बाबा अमरनाथ की यात्रा 30 जून से प्रारंभ होगी। इसके लिए रायगढ़ से श्रद्घालुओं का पहला जत्था रवाना हुआ । कोरोना महामारी की वजह से दो साल तक यह यात्रा बाधित थी। श्रीनगर से लगभग 135 किलोमीटर दूर बाबा का पवित्र गुफा है। यहां प्रतिवर्ष बर्फ के शिवलिंग प्राकृतिक रूप से बनते हैं। अमरनाथ गुफा भगवान शिव के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। इसे तीर्थों का तीर्थ कहा जाता है। मान्यता है कि यहां भगवान शिव ने माँ पार्वती को अमरत्व की कथा सुनाई थी। यहां शिवलिंग के दर्शन के लिए पूरे देश से भक्त लाखों की संख्या में आते हैं। विश्वशांति एवं जगत कल्याण के उद्देश्य से रायगढ़ से पहला जत्था रवाना हुआ। श्रद्घालुओं में निखिल अग्रवाल, राजेश कश्यप, मनीष शर्मा, मनोज प्रधान, मनोज पटेल, सुदामा पटेल, मोनू राठौर, गुलाब पटेल, विपिन अग्रवाल, अखिलेश मिश्रा, जहरीराम टोप्पो शामिल है।

हज जायरीनों का कमिटियों ने किया स्वागत

मस्जिद गरीब नवाज कमेटी, मदरसा अहमदिया साबिरिया कमेटी द्वारा रायगढ़ शहर से हज के लिए जा रहे जायरीन का स्वागत मस्जिद गरीब नवाज में हुआ। कार्यक्रम की शुरूआत नायब इमाम मौलाना मोहम्मद फैजुल बारी की तिलावत ए कुरान ए पाक से हुआ। मौलाना इफ्तेखार अहमद साबरी ने हज पर रोशनी डाला। सदर हाजी शेख कलीमुल्लाह वारसी ने कहा कि कोरोना काल के दो साल बाद जायरीन जा रहे हैं। रायगढ़ के जामा मस्जिद ट्रस्ट के साबिक सदर मोहम्मद अबरार, आबिदा बेगम, मोहम्मद अंजार हज के लिए जा रहे हैं। साथ ही साथ ओडिशा पंचगांव निवासी मोहम्मद सिद्दीक, राजिया बानो भी जा रही हैं।

मस्जिद गरीब नवाज के इमाम हजरत मौलाना इफ्तिखार अहमद साबरी ने मोहम्मद अबरार का शाल देकर स्वागत किया। मौलाना मेंहदी हसन कादरी, मुदर्रिस मदरसा गौसुलवरा इंदिरा नगर ने मोहम्मद अंजार का स्वागत किया। मौलाना शमशेर आलम खतीबो इमाम, मदीना मस्जिद, मौदहापारा ने मोहम्मद सिद्दीक का स्वागत किया। इसके बाद सभी का स्वागत किया गया। कार्यक्रम में हाजी मोहम्मद इकबाल, मीर गजनफर अली, मेहरदीन, मोहम्मद मुबीन, अमीर बख्श, अब्दुल हक, फकीर हुसैन रिजवी, गुलाम फारूक, मोहम्मद शरीफ साबरी सहित मधुबन पारा के निवासी शामिल थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close