रायगढ़ । लैलूंगा पुलिस ने तीन मई को ग्राम पोकडेगा में मिले शव की शिनाख्ती कर हत्या की वारदात में संलिप्त मृतक की प्रमिका और उसके चचेरे भाई को गिरफ्तार किया है। मामले में सह आरोपित महिला का पति फरार है।

ग्राम कोटवार पोकडेगा ने थाना प्रभारी लैलूंगा निरीक्षक प्रवीण मिंज को बताया कि काजूबाड़ी जंगल में 25-26 साल के एक अज्ञात युवक का जला शव पड़ा है। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उसकी पहचान की कोशिश की। लेकिन अधजला होने के कारण शिनाख्ती नहीं हो सकी। वाट्सएप में वायरल फोटो से बलरामपुर जिले में कार्यरत आरक्षक चंद्र विजय पैकरा ने उसकी पहचान छोटे भाई सत्यनारायण पैकरा (30) के रूप में की। सत्यनारायण माटीपहाड़ छर्रा थाना तुमला जिला जशपुर का निवासी था। चार मई को तुमला थाना जिला जशपुर में सत्यनारायण के गुम होने की शिकायत दर्ज कराई गई थी। दो मई को सत्यनारायण महुआ बेचने निकला था । इसके बाद से गायब है।

पुलिस को जानकारी मिली कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुनिता पैकरा से उसके संबंध थे। इस पर सुनीता को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई और सब कुछ पर्त दर पर्त साफ हो गया। सुनिता ने अपने पति रघुनंदन पैंकरा और चचेरे भाई मदन पैंकरा के साथ मिलकर दो मई की रात भंगामुडा के पास सत्यनारायण की हत्याकर शव को तोलमा रोड़ के आगे पोकडेगा में जलाने की जानकारी दी। पुलिस ने मदन को भी हिरासत में लिया है। उसने बताया कि सत्यनारायण का दो-तीन सालों से प्रेम संबंध था। वह कुछ दिनों से मिलने के लिए बहुत दबाव बना था। इससे परेशान होकर हत्या की योजना बनाई और दो मई की शाम को मिलने भंगामुडा बुलाया। जहां पूर्व से रघुनंदन व मदन छिपे थे । सत्यनारायण पहुंचने पर सिर, चेहरे पर ताबड़तोड़ वार किया जिससे उसकी वहीं मौत हो गई । इसके बाद शव को रघुनंदन और मदन मोटर साइकिल में लेकर तोलमा रोड ले गए और ग्राम पोकडेगा के काजूबाड़ी में महुआ पत्ता जलाने वाले गड्ढे में शव को डालकर पेट्रोल छिडक़कर जला दिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local