रायगढ़। पिछले कुछ दिनों से हो रही लगातार बारिश से महानदी में जलस्तर बढ़ा है और नदी के तटीय इलाकों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो रही है। इसको देखते हुए जिला प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने सारंगढ़, पुसौर, बरमकेला विकासखंड के अधिकारियों को तत्काल मौके पर पहुंच कर स्थिति का जायजा लेने और राहत और बचाव कार्य के लिए सभी आवश्यक प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर साहू लगातार लोगों के राहत के लिए आवश्यक व्यवस्थाओं की मानिटरिंग कर रही हैं।

इसी बीच उपरी हिस्से जांजगीर व अन्य जिले में भारी बारिश होने के चलते महानदी एवं शहर में यही हाल होने से नदी नाले उफान पर है। जिसकी वजह से दर्जनों पुल पुलिया सारंगढ सरिया बरमकेला का डूब चुका जबकि लात नाला एवं कोतरा का पुल पहले से डूबा हुआ है। इससे आवागमन थम गया है। इन सभी के बीच लगातार जलस्तर बढ़ने से महानदी के तटीय इलाके में मौजूद ग्राम में जल भरने लगा है कई गांव के लोग आशियाना खाली कर सुविधाओं वाले स्थल में पनाह लिए है। इधर बाढ़ की समस्या को देखते हुए कलेक्टर रानू साहू के निर्देश पर प्रभावित गांवों में तत्काल तहसीलदार, नायब तहसीलदार, आरआई व पटवारी को तैनात किया जा रहा है। प्रभावित इलाकों से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करने व उनके भोजन के लिए समुचित व्यवस्था के लिए सीईओ जनपदों व खाद्य अधिकारी को निर्देशित किया गया है। स्वास्थ्य विभाग को ऐसे प्रभावित इलाकों में डॉक्टरों व मेडिकल स्टाफ की टीम भेजने के निर्देश सीएमएचओ को दिए हैं। फिलहाल ग्रामीणों को गांव से नाव के माध्यम से निकाला जा रहा है।

इधर जानकारों के मुताबिक जैसे-जैसे नदी का जलस्तर बढ़ेगा वैसे-वैसे 34 गांवों से अधिक ग्रामीण क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा भी बढ़ता जाएगा। उपरी भागों में झमाझम बारिश होने के बाद जिला प्रशासन अलर्ट मोड में आ गई है और वह पैनी नजर बनाए हुए हैं।

नगर सेना की 3 टीमें तैनात

जहां जलस्तर बढ़ रहा है वहां से लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए कलेक्टर रानू साहू के निर्देश पर नगर सेना की टीमें तैनात कर दी गई हैं। इनमें से 2 टीमें सरिया और 1 टीम पुसौर में तैनात है।

इधर केलो उफान पर, सीजन में पहली बार डूबा मरीन ड्राइव

लगातार बारिश होने की वजह से शहर में जल भराव की हालत बन गया है। केलो नदी उफान पर है तो इस सीजन में पहली बार मरीन ड्राइव में पानी प्रवेश कर चुका है। जिससे इस रोड किनारे सरकारी दफ्तर में जल प्रवेश कर चुका है जबकि जो दफ्तर ऊंचाई में बने है उनके परिसर में जल भर गया हैं। इस तरह केलो नदी पाटो पाट बह रही है जबकि अगर बांध का गेट खोला गया तो हालत और बिगड़ सकते है इसकी पूर्वानुमान अधिकारी वर्ग ने जिला प्रशासन को अवगत करा चुके है।

पोरथ, सूरजगढ़ सुरसी समेत दर्जनो गांव में भरने लगा पानी

महानदी तट किनारे मौजूद सरिया व पुसौर तहसील के दर्जनों गांव बाढ़ प्रभावित है जबकि यहां हर वर्स बाढ़ का खतरा मंडराता है। हालांकि पिछले तीन साल से यह स्थिति नही बनी थी लेकिन इस वर्ष फिर से यह हालत बन गए है। यहां सरिया तहसील के गांव ज्यादा प्रभावित है जबकि पुसौर के सूरजगढ़ व सुरसी गांव है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close