रायगढ़। जर्जर सड़को में क्वार माह में वर्षा से और मुसीबत बढ़ा दी है। जिसके चलते रायगढ़ जिले से बाहर निकलने वाली प्रमुख मार्ग कीचड़ से लतपथ हो गया है, सड़क में जानलेवा तालाब नुमा गड्ढे बन गए है। इसका दंश रायगढ़ अम्बिकापुर मार्ग में शहर के उर्दना तिराहा से निकलते ही लोगो भोगना पड़ रहा है। सड़क की बदहाली के चलते 40 किलोमीटर दूर घरघोड़ा का सफर बड़े बड़े गड्ढे,सड़क खेत बनने से, धूल के गुब्बार के चलते केवल जाम के हालत है जो तीसरे दिन यानी शनिवार सुबह 10 बजे तक बना हुआ है।

रायगढ़ घरघोड़ा से व्हाया धरमजयगढ़ तक का रास्ता अब लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन गया है। सड़क पूरी तरह से जर्जर हो चुकी है, सड़को में गड्ढे है या गड्ढे में सड़क यह बता पाना मुश्किल हो गया है। दूसरी ओर यह स्थिति बीते दिनों वर्षा होने की वजह से और विकराल हो गई हैं। लाखा पार करते ही गेरवानी मार्ग कीचड़ और जर्जर सड़क होने की वजह से यहां गाड़ियां रोज टूट-फूट कर ब्रेक डाउन, कीचड़ में फंस रही हैं और जाम लग रहा है। जाम लगने से दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी कतारें लग जाती हैं। यह वाहनो की कतार गेरवानी से करीब 20 किलोमीटर दूर तक दोनो छोर में रहता है।

यही हाल घरघोड़ा समारूमा के इर्दगिर्द से भी बना हुआ है। इसके आगे बढ़ते ही बरौद माइंस एवं यहां से आगे बढ़ते ही कूडूम केला और जामपाली माइंस में जाम स्थिति है। स्थानीय व राहगीरों के मुताबिक यहां जाम लगना सामान्य है इसकी वजह केवल ट्रेलर चालक ट्रिप के चक्कर मे प्रभाव वाले मालिक के बदौलत अस्त व्यस्त तरीके से गाड़िया खड़ी करते है। बताया जा रहा है कि जामपाली एवं बरौद घाट में अलग अलग कारणों से आधा दर्जन वाहन जगह जगह फसी हुई थी, यही वजह रहा कि ग्राम टेरम गांव के पास जाम लग गया।

इसका सीधा असर आवागम पर पड़ा जो जहां से वाहन निकाल पाया वो अपने वाहनों को निकाल कर ले जाने लगे। बहरहाल दो दिन के जाम से हलाकान जनता की सुध लेने जिला प्रशासन कुम्भकर्णी नींद से जागी और सड़क सुधार के लिए कवायद में जुट गई है, वही यातायात पुलिस सड़क में फंसे वाहनो को क्रेन से निकालने में जुटी है। लेकिन यह सब वर्तमान स्थिति तक नाकाफी साबित हो रहा है। जिसका खामियाजा केवल जनता को उठाना पड़ रहा है।

सड़क को लेकर भाजपा का शंखनाद पदयात्रा

जिले की सड़क को लेकर लंबे समय से राजनीतिक नूराकस्सीश्ती का खेल चलता रहा है भाजपा जहां आक्रमक तेवर अपनाते हुए सड़क को लेकर भूपेश सरकार बयानबाजी कर रही है तो कांग्रेसी नेता भी 15 सालों के कुतर्क भ्रष्टाचार का खामियाजा सड़क के रूप बता रही है।

इस बीच प्रदेश के आवाहन पर शंखनाद का आगाज करते हुए घरघोड़ा से रायगढ़ तक तीन दिवसीय पदयात्रा रखा गया है। पहले दिन शनिवार को संगठन महामंत्री पवन साय, प्रदेश महामंत्री ओपी चौधरी, विजय शर्मा शामिल होंगे वही धरमलाल कौशिक व पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के भी शामिल होने की चर्चा है । यह आंदोलन ओपी चौधरी एवं सांसद गोमती साय के नेतृत्व में होगा।

जबकि तीसरे दिन शहीद चौक आमसभा में प्रदेश अध्यक्ष व अन्य नेता भी जुटेंगे ततपश्चात सड़को को लेकर जिला मुख्यालय कलेक्टर दफ्तर का घेराव किया जाएगा। इस तरह सड़क की राजनीति करते हुए बीजेपी जिले की खोई हुई पांचों विधानसभा पर वापस कब्जा पाने के लिए एक तरह से राह बनाने में जुट गई है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close