रायगढ़। नईदुनिया प्रतिनिधि)।कोरोना से बचने के लिए ग्राम पंचायतों में भी सीमाएं सील कर दी गई है। कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए पंचायतों में गांव के बाहर अस्थायी चेकपोस्ट बनाकर सरपंच व ग्रामीण पहरा दे रहे हैं और किसी भी बाहरी व्यक्ति को प्रवेश नहीं दे रहे हैं।

कोरोनाबंदी के कारण पूरा जिला लॉकडाउन है। शहर के साथ ग्रामीण अंचलों में भी कोरोनाबंदी का खौफ है। शहर से लगे गांवों में पंचायत के जनप्रतिनिधि एवं गांव के युवाओं की टीम इसके लिए काम करी रही है और अस्थायी चेकपोस्ट तैयार कर गांव से ना तो किसी को जाने दिया जा रहा है और ना ही किसी बाहरी को प्रवेश दिया जा रहा है। कोरोनो के संक्रमण से लोगों को जागरूक करने के लिए ग्रामीणों ने गांव की सीमा पर प्रवेश निषेध वाले पोस्टर भी लगवा दिए हैं और दिन रात बारी-बारी से इसके लिए ग्रामीण इसमें बैठकर पहरा दे रहे हैं,ताकि गांव में किसी अनाधिकृत व संक्रमित व्यक्ति के प्रवेश से कोरोना की चेन ना बन सके। धनागर,जोरापाली,कुलबा, कुसमुरा एवं शहर से लगे गांवों में भी इसी तरह से गांव वालों ने कोरोनाबंदी के लिए रोक लगाई हुई है और चस्पा की गई सूचना में पेनाल्टी लगाने का भी जिक्र किया गया है। धनागर व कुलबा के ग्रामीणों ने बताया कि कोरोना वायरस को देखते हुए गांव वाले गंभीर हैं और वे खुद ही पहल करते हुए संदेहियों को गांव में घुसने से रोकने के लिए पहल कर रहे हैं। गांव वाले बैरियर लगाकर दिन रात उसमें पहरा दे रहे हैं।

बाहरी लोगों से है खतरा

रायगढ़ में विदेश से आने वाले कोरोना वायरस संदेहियों की संख्या कम है और खतरा भी कम हो सकता है लेकिन महानगरों से घर वापस लौटने वाले मजदूरों से यह खतरा अधिक है। यह बात राज्य शासन और प्रशासन भी जान चुका है। गांव वाले भी इस खतरे से अनजान नहीं है। यही वजह है वे भी खुद की कोशिशें कर इस खतरे को दूर करने का उपाय कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket