जशपुरनगर। नईदुनिया प्रतिनिधि।

पांच किलोमीटर लंबे लोरो घाट में सड़क के दोनों ओर खुदाई किए जाने से बारिश के दौरान यहां से गुजरना जोखिम भरा है। पिछले दिनों भारी बारिश से सड़क में कीचड़ से वाहन चालकों को समझ में नहीं आ रहा है कि वाहन को किस ओर से ले जाए। इससे दुर्घटनाएं भी हो रही है। कलेक्टर ने टीएल की बैठक में एनएच के अधिकारियों को लोरो घाट इलाके में गड्ढों को भरने कहा है। लेकिन इसे गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है।

पत्थलगांव से कुनकुरी तक राष्ट्रीय राजमार्ग की बदहाली के बाद अब कुनकुरी से जशपुर तक का सफर भी जिलेवासियों के लिए एक बुरे सपने के समान साबित हो रहा है। इन दिनों लगातार हो रही बारिश से लोरो घाट में कीचड़ और दलदल ही देखने को मिल रहा है। निर्माण कंपनी द्वारा मापदंड को दरकिनार करते हुए सड़क में मिट्टी डाल दिए जाने से वाहन के पहिए फिसल रहे हैं। पांच किलोमीटर की दूरी को तय करने में वाहनों को आधा घंटा से ज्यादा समय लग रहा है।

लंबे विवाद के बाद पत्थलगांव से कुनकुरी तक सड़क निर्माण कार्य फिर से शुरू हुआ है। निर्माण की जिम्मेदारी तिरूपति बालाजी कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया है। कटनी गुमला राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण के लिए प्रदेश सरकार ने सात सौ करोड़ रुपये जारी किए है। टेंडर प्रक्रिया के बाद जिले में दो हिस्से में इसका निर्माण किया जा रहा है। पत्थलगांव से कुनकुरी तक सड़क निर्माण की जिम्मेदारी जीवीआर कंस्ट्रक्शन कंपनी को और कुनकुरी से झारखण्ड की अंतरराज्यी सीमा पर स्थित शंख नदी के पुल तक सड़क निर्माण का काम शिवालया कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा कराया जा रहा है। दो सौ साल तक टिकने वाली सड़क निर्माण करने का केन्द्र सरकार का यह परियोजना, सड़क निर्माण शुरू होने के चंद महिनों के बाद उस वक्त विवादों में घिर गया, जब पत्थलगांव से कुनकुरी तक सड़क का निर्माण कर रही जीवीआर कंस्ट्रक्शन कंपनी आर्थिक परेशानी में फंस गई। इससे सड़क निर्माण का कार्य अधर में लटक गया। इससे बुरी तरह से खुदी हुई सड़क बारिश की पहली बूंद पड़ते हुए कीचड़ के दलदल में तब्दील हो गया। भारी वाहनों के फंस जाने से इस सड़क पर वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से ठप हो गया। एनएच के बाधित होने से भारी वाहनों का पूरा भार स्टेट हाईवे पर आ गया। इससे यह सड़क भी पूरी तरह से जर्जर हो चूका है। विधानसभा चुनाव 2018 और लोक सभा चुनाव 2019 में इस जर्जर राष्ट्रीय राजमार्ग को लेकर खूब राजनीतिक खिंचतान हो चुकी है। भाजपा के स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा किए गए प्रयास के बाद केन्द्रीय सड़क निर्माण विभाग ने अधूरे पड़े सड़क निर्माण की जिम्मेदारी पंजाब की एक कंस्ट्रक्शन कंपनी ग्रोवर एंड संस को दिया था। लेकिन कुछ दिनों तक निर्माण कार्य करने के बाद इस कंपनी ने भी हथियार डाल दिए। अब सड़क निर्माण के लिए केन्द्र सरकार ने टीबीसीएल कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया है। कलेक्टर महादेव कावरे ने बताया कि मंगलवार को ऑन लाइन समीक्षा बैठक के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण कंपनी के अधिकारियों ने उन्हें इसकी जानकारी दी है। उन्होंने उम्मीद जताया कि निर्माण कंपनी तय हो जाने के बाद सड़क निर्माण की गति में तेजी आ सकेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020