रायगढ़(नईदुनिया प्रतिनिधि)। प्रदेश में पिछले दो दिनों से हो रही भीषण बारिश के बाद महानदी सहित कई नदी नाले अपने पूरे उफान पर है। भारी बारिश के कारण महानदी में आई भीषण बाढ़ से नदी किनारे के कई जलमग्न होने की स्थिति में आ गए हैं। केलो नदी, मांड नदी भी अपने पूरे उफान पर हैं। बारिश तीन दिनों से लगातार होने और गंगरेल बांध से पानी छोड़ने से सूरजगढ;, नदीगांव, चन्द्रपुर महानदी में पानी-पानी हो गया, लात नाला व चंद्रपुर नाथलदाई मंदिर पार्कि र्ग स्थल जलमग्न हो गया साथ ही नदी किनारे बसे गांवमें बाढ़ का पानी घुसने की आशंका बढ़ते जन जीवन अस्त व्यस्त होने लगा है।

मिल रही जानकारी के अनुसार महानदी के तटवर्ती गांव सूरजगढ़ में बाढ़ का पानी घुसने लगा है। गांव का कुछ भूभाग जलमग्न हो गया है वहीं महानदी में आई बाढ़ की वजह से पोरथ धाम भी जल भराव होने लगा है। मंदिर परिसर करीब 2 फिट पानी से लबालब हो चुका है। परसापाली, चंघोरी, बाराडोली, सिमपुरी, खपरापाली, तोरा, सुरसी,परसरामपुर, लिप्ती, नदीगांव सहित अन्य गांव में पानी प्रवेश कर रहा है। यहाँ यह भी बताना लाजमी होगा कि रायगढ़ जिले के सूरजगढ़, नदीगांव व पड़ोसी जिले जांजगीर के चंद्रपुर विधानसभा में आई बाढ़ को लेकर रायगढ़ के जिला प्रशासन पड़ोसी राज्य ओडिशा के संबलपुर जिले प्रशासनिक अमले को वस्तुस्थिति से अवगत कराया गया है। बताया जा रहा है कि महानदी का जलस्तर बढ़ने के बाद हीराकुंड डैम का भी कुछ गेट खोला गया है।

दर्जनों गांव का संपर्क टूटा

महानदी मांड नदी में आये बाढ़ से चंद्रपुर में हालात बिगड़ गए। यहां पुल में खतरे का निशान 58 फीट है। सरिया जाने वाला लात नाला उफान पर बह रहा है। इससे बरमकेला और सरिया मार्ग पर पानी भर गया। जिससे इन क्षेत्रों में दर्जनो गांव में रहने वाले लोगो का चंद्रपुर के रास्ते से मुख्यालय आने का रास्ता बंद हो गया इस वजह से इनका संपर्क कट गया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close