रायगढ़ (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नगर निगम प्लेसमेंट सफाई कर्मचारियों और ठेकेदार व निगम प्रशासन के बीच के चल रहे समय से वेतन, पीएफ धनराशि, सप्ताहिक अवकाश समेत आधादर्जन मुद्दे को लेकर एक बार फिर से हड़ताल में चले गए है। सफाई कर्मचारियों के हड़ताल में चले जाने से महा सफाई अभियान व स्वच्छता सर्वेक्षण रिपोर्ट को बंटाधार व शहर में अराजकता फैलने की की चिंता सताते ही महापौर, शहर सरकार के मंत्री व अन्य लोग हड़ताल स्थल निकले कर्मचारियों से चर्चा की परंतु यह चर्चा बेनतीजा रहा।

गौरतलब है कि 48 वार्डो में काम करने वाले 385 ठेका कामगार है। जिसमें महिला व पुरूष दोनों शामिल है। समय पर वेतन नही मिलने से नाराजगी जाहिर करते हुए हड़ताल में चल दिए है। इसके अलावा उनकी पीएफ राशि व साप्ताहिक अवकाश समेत आधा दर्जन जायज मांग को लेकर हड़ताल में चले गए है। हड़ताल का शंखनाद निकले महादेव मंदिर में एकत्रित होकर किये है। जिसकी भनक तड़के सुबह जब सफाई कामगारो ने काम मे नही आये तो सम्बंधित वार्ड के सफाई दरोगा व सुपरवाइजर ने इसकी जानकारी अपने उच्च अधिकारियों को दिए। हड़ताल की सूचना मिलने के बाद निगम अधिकारियों में खलबली मच गई। आनन फानन में कर्मचारियों से मिलने प्रभारी आयुक्त, उपायुक्त, महापौर कर्मचारी संघ अध्यक्ष व एमआईसी सदस्यों की टीम मौके पर जाकर कामगारो को समझाने का प्रयास किया परन्तु नतीजा सिफर रहा।यहां यह बताना लाजमी होगा कि शहर की सफाई का जिम्मा मां चंडी कम्पनी के पास है। कम्पनी द्वारा जुलाई माह से संचालित हो रही है। वही विगत साल भर पूर्व व इसी साल के शुरुआत में जब बर्फानी कंपनी ठेका चला रही थी तब भी पीएफ राशि कामगारो के खाते में नही डालने व उक्त धनराशि को वेतन से काटा जा रहा है। इस पर भी हड़ताल हो चुका है। वहीं प्लेसमेंट कर्मचारियों में हडताल में जाने के बाद इसका असर पहले ही दिन शहर में देखने को मिल गया है। जिसमें शहर के मध्य कचरा डम्प यार्ड में कचरे का ढेर लगा हुआ है। वही गली मोहल्ले में सफाई नहीं होने से कचरे व बजबजाती नालियों से जद्दोजहद लोगो को करना पड़ रहा है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close