रायगढ़ (नईदुनिया प्र्रतिनिधि)। वन मंडल अंतर्गत 42 हाथी अलग -अलग जगहों पर विचरण कर रहे हैं ऐसे में हांथियों को लेकर प्रभावित क्षेत्रवासी समेत वन महकमे की चिंता बढ़ी हुई है। वैसे तो धरमजयगढ़ वन मंडल एक तरह से हांथीमय है,आए दिन क्षेत्र में हांथियों की आमद की खबर या फिर हांथियों से फसल व घर नुकसानी की खबर लगातार सुनने देखने को मिल रही है।

एक जानकारी के मुताबिक मौजूदा समय देखा जाए तो धरमजयगढ़ वन मंडल अंतर्गत अलग-अलग जगहों पर कुल 42 हाथी विचरण कर रहें है जो काफी चिंतनीय विषय है विस्तार से हांथियों की जानकारी जैसे धरमजयगढ़ वनमण्डल के छाल क्षेत्र अंतर्गत लोटान 483 कक्ष क्रमांक में 1 हाथी,बोजिया 513 में 1 हाथी, बेहरामार के जंगल मे 1 हाथी, महाराज गंज के कक्ष क्रमांक 545 में 1 हाथी,तो वहीं धरमजयगढ़ वनपरिक्षेत्र के बरतापाली एवं क्रोन्धा के जंगल में 1 हाथी,कक्ष क्रमांक 405 गेरसा जंगल मे 1 हाथी,पोटिया के कक्ष क्रमांक 400 में 11 के दल में हाथी घूम रहे हैं वहीं बाकारूमा रेंज के धौराभांटा 113 कम्पार्टमेंट में 1 हाथी, साथ ही बोरो वनपरिक्षेत्र के जंगल में दो हाथी की मौजूदगी है साथ ही बताते चले लैलूंगा वनपरिक्षेत्र अंतर्गत जंगलों में 22 हांथियों का दल विचरण कर रहा है।

हालांकि वन विभाग के अधिकारी कर्मचारियों द्वारा एहतियातन लगातार हाथी प्रभावित इलाकों में लोगों को सचेत रहने जरूर जागरूक किया जा रहा है क्षेत्र में हाथी आमद की खबर गांव में मुनादी कर दी जा रही ताकि किसी भी तरह की हानि से बचाया जा सके लेकिन यहां जिस तरह से क्षेत्र में हांथियों की आमद है लगातार हांथियों की तादाद बढ़ रही है उससे कहीं न कहीं यह लगता है कि शासन प्रशासन का यह कदम सुरक्षा की दृष्टि से निसंदेह पर्याप्त नही है इससे और उचित बेहतर ठोस कदम उठाने की शायद नितांत आवश्यक है जैसे यहां बात करें खासकर एलिफेंट

कारिडोर का होना।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local