रायगढ़, नईदुनिया प्रतिनिधि। चक्रधरनगर थाना क्षेत्र ग्राम कोलाई बहाल जामगांव में दोपहर लगभग डेढ़ बजे के आसपास दर्दनाक घटना घटित हुई है । जिसमे स्थानीय चार महिलाए खेत मे काम करने के बाद खाना खाकर आराम कर रही थी। इस बीच आकाशीय गाज महिलाओ पर कहर बनकर टूटी । आकाशीय गाज की चपेट में आकर चारों महिलाओं को बेहोशी की हालत में रायगढ़ रेफर किया गया है। जिसमें एक महिला को आरंभिक जांच के बाद डाक्टरो ने मृत घोषित कर दिया । वही तीन महिला की हालत नाजुक बनी हुई है ।

मिली जानकारी के मुताबिक कमला चौहान पति कीर्तन चौहान उम्र 34 वर्ष, रामबाई चौहान पति स्व मोहित चौहान उम्र 50 वर्ष,सारिका चौहान पति घनश्याम उम्र 33 वर्ष, सुमति चौहान पति श्याम चौहान उम्र 35 एक ही गांव कोलाईबहाल के रहवासी है। महिलाओं द्वारा अपने ही परिवार के सदस्य दातर चौहान के खेत में धान की खड़ी फसल में निंदाई का काम मजदूरी स्वरूप कर रहे थे।

इस बीच दोपहर एक बजे काम बंद करके खाना खा कर खुले में आराम कर रहे थे। इस दौरान मौसम ने एकाएक करवट लिया और आसमानी कहर गाज बरसने लगी।इससे आराम कर रही महिलाए बेखबर थी। इसी बीच आसमानी कहर उनके आराम को हराम करते हुए अपना कहर बरपाते हुए अपने चपेट में ले लिया।

ततपश्चात चारो महिला गाज की चपेट में आकर अचेत हो गए। जिसे कुछ दूर दूसरे खेत मे काम कर रहे लोगो ने उनकी सुध लिए और आनन -फानन में अन्य ग्रामीणों को सूचना देते हुए किसी तरह अस्पताल इलाज के लिए लेकर आये। जहां प्राथमिक जांच के बाद डाक्टरों ने कमला बाई को मृत घोषित कर दिया। बहरहाल आकाशीय कहर से जख्मी 3 अन्य महिलाओं को मेडिकल कालेज में अस्पताल में इलाज चल रहा है।

विलाप से अस्पताल में पसरा मातम

एक ही गांव के महिलाओं पर आकाशीय गाज का कहर इस कदर पड़ा के महिला को असमय जान से हाथ धोना पड़ गया। बताया जा रहा है कि महिला का एक लड़की एक लड़का है । जिसमें दोनो ममता के साये है। वही महिला की मौत हो जाने के बाद से समूचे गांव में मातम का पसर गया है लोग गमगीन शोकाकुल नजर आये यह तस्वीर अस्पताल व पुलिस थाने में भी नजर आई है। वहीं परिजनों को विलाप करते देख अस्पताल में आये लोग मामले की पूछताछ करते नजर आए।

एक माह पांच लोगो की मौत

इन दिनों मौसम अपना रुद्र रूप दिखा रहा है । जिसमें बारिश के शुरुआती माह में बारिश नदारद थी वही समाप्ति के दौरान बारिश की झड़ी जिले में लगी थी । इसमें गरज चमक भी अत्यधिक होने लगी है। इन गरज चमक ने एक माह के अंतराल में अब तक पांच लोगों को अपनी चपेट में लेकर काल के आगोश में भेज चुका है। जिसमें हाल ही के दिनों में कोतरारोड थाना, घरघोड़ा, तमनार और अब चक्रधरनगर भी शामिल हो गया है।

अच्छी पहल : विसर्जित होने के बाद फिर 'अवतरित' होंगे भगवान गजानन

देनदारी से लदी देश की बिजली कंपनियां, छत्तीसगढ़ ले रहा राहत की सांस