रायगढ़, नईदुनिया प्रतिनिधि। जुलाई में मानसून के भटकने के बाद सूखे वाली स्थिति बनी तो अब अगस्त महीने की रिकार्ड बारिश ने किसानों के लिए मरहम का काम किया है। जिले में इस बार अगस्त महीने में 3 साल की अपेक्षा सबसे ज्यादा बारिश हुई है और 30 दिनों में रूक-रूक कर हुई 412 मिमी बारिश के बाद किसानों में भी अच्छी फसल की आश जगी है।

जिले में 1 अगस्त से 31 अगस्त के बीच हुई बारिश ने खरीफ की फसल के लिए संजीवनी का काम किया है। मौसम विभाग के अनुसार जिले की सभी 9 तहसीलों में औसत रूप से 412.5 मिमी बारिश हुई है, जबकि साल 2018 में अगस्त महीने में 288 मिमी और साल 2017 में केवल 192.6 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। मतलब इस बार अगस्त महीने की बारिश ने रिकार्ड तोड़ दिया है।

महीने में इस दौरान 4 से 5 बार झड़ी लगी लेकिन बाढ़ जैसी स्थिति नहीं आई। इसलिए ऐसी बरसात से किसान भी खुश हैं। वहीं कृषि विभाग के जानकार भी जुलाई की अपेक्षा अगस्त महीने की बारिश को धान के लिए ज्यादा जरूरी बता रहे हैं और इस महीने हुई बारिश से खेतों में स्थिति सुधरने का दावा कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि जून और जुलाई महीने में जिले में केवल 386 मिमी औसत बारिश दर्ज की गई थी। जिससे खेतों में दरारे आने लगी थी और धान की फसल लेने वाले किसान सूखे की आशंका से घबराए हुए थे। जुलाई महीने में जिले की 9 में से 7 तहसीलों में 85 प्रतिशत से भी कम बारिश हुई थी और घरघोड़ा धरमजयगढ़ में सूखे के हालात बनने लगे थे लेकिन अगस्त महीने की बारिश ने इसके लिए मरहम का काम किया है।

बीते साल से 5 प्रतिशत ज्यादा बारिश

रायगढ़ जिले में अगस्त महीने तक की स्थिति देखे तो इस बार बीते साल की अपेक्षा ज्यादा बारिश हुई है। साल 2018 में अगस्त महीने तक कुल 775.8 प्रतिशत बारिश हुई थी, जो कि औसत का केवल 89.3 प्रतिशत की था लेकिन इस बार अगस्त की रिकार्ड बारिश के कारण यह आंकड़ा 798.6 मिमी तक जा पहुंचा है और प्रतिशत के लिहाज से भी यह 94.6 प्रतिशत तक है। मतलब बीते साल से इस बार करीब साढ़े 5 प्रतिशत ज्यादा बारिश है।

जुलाई में कमजोर बारिश के कारण सूखे की आशंका लग रही थी लेकिन अगस्त महीने में इस बार रूक-रूककर अच्छी बारिश हुई है। इससे धान के अलावा खरीफ की दूसरी फसलों को भी फायदा पहुंचा है। इस महीने में भी मौसम ने साथ दे दिया तो अच्छी पैदावार हो सकती है। एलएम भगत,डीडीए

सुपोषण अभियान : मां, आप रोजाना आयरन की गोली खाएं, नहीं तो मैं दुनिया कैसे देख पाऊंगा

डॉक्टर लिखेंगे पर्ची, उसे स्कैन कर एप बताएगा बीमारी और दवाई