रायगढ़ (नईदुनिया प्रतिनिधि ) । कांदा समझकर जहरीले फल को एक ही परिवार के आठ सदस्यों द्वारा सेवन किए जाने से फूड पायजनिंग के शिकार होने का मामला सामने आया है। केजीएच अस्पताल में परिवार के आठ सदस्यों को भर्ती किया गया है। सघन उपचार के बाद जिनके सेहत में सुधार है।

जानाकरी के मुताबिक मामला तारापुर के पास पचेड़ा गांव का है। रतन विश्वकर्मा (40) के घर बुधवार सुबह 4 मेहमान आये। परिवार में पहले से चार सदस्य थे। बुधवार को रतन अपने रिश्तेदारों को लेकर खेत पहुंचा। यहां उसके रिश्तेदारों ने जिमि कांदा समझकर एक फल को उखाड़ लिया। परिवार शाम को इस फल को खाने के लिए सब्जी बनाई। सब्जी खाने के कुछ देर बाद ही पूरा परिवार उल्टी करने लगा।

परिवार को कुछ देर बाद पुटकापुरी स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। स्थिति खराब होने पर उन्हें रायगढ़ केजीएच में रेफर किया गया। परिवार के सभी सदस्यों का इलाज जारी है। भर्ती सदस्यों में सुखराम विश्वकर्मा, रतन विश्वकर्मा, पुष्पाबाई विश्वकर्मा, कलाराम विश्वकर्मा, चैनसिंह सिदार, भजनू सिदार, समरीन बाई, रजनी शामिल है। घटना की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन हरकत में आ गया। अफसर देर रात तक अस्पटेल पहुंच रहा था। भर्ती मरीजों की स्थिति अभी तक ठीक बताई जा रही है।

नवदुर्गा फ्यूल्स में ब्लास्ट से कई झुलसे

सुरक्षा मापदंडों के पालन में लापरवाही का खामियाजा संस्थान के कर्मचारियों को भुगतना पड़ता है। रायगढ़ जिले में आए दिन औद्योगिक हादसे की सूचनाएं आती रहती है।

गुरुवार को यहां नवदुर्गा फ्यूल्स में सुरक्षा मापदंडों में चूक के कारण फर्नेस ब्लास्ट हो गया। इससे यहां काम कर रहे कई श्रमिकों और कर्मचारियों को चोटें आई है। घायलों को निजी अस्पतालों में भर्ती करया गया है। मामला सामने आने के बाद लीपापोती का खेल शुरु हो गया है। एक ओर उद्योग प्रबंधन अपने आप के बचाने तत्थ्यों का छिपाने में लगा है वहीं संबंधित विभाग भी कार्यवाई से बच रहा है। प्रशासन द्वारा केवल कागजी खानापूर्ति की जा रही है। कुछ दिनों पूर्व जेएसडब्ल्यू मोनेट में भी इसी प्रकार की घटना हुई थी जिसमें एक श्रमिक की मृत्यु घटनास्थल पर ही हो गई थी और दो श्रमिकों की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। परंतु मामले में कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई। नवदुर्गा फ्यूल्य में हुई घटना को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। जबकि जानकारों के अनुसार ब्लास्ट इतना जबरदस्त था कि आसपास कार्य कर रहे कई कर्मचारियों और श्रमिक इसके चपेट में आए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close