रायगढ़ (नईदुनिया प्रतिनिधि)। ए ग्रेड दर्जा प्राप्त रायगढ़ रेलवे स्टेशन में शनिवार को पैनल केबिन के स्विच बोर्ड में शॉर्ट सर्कटि से आग लग गई। शाट सर्कटि की आग इतनी भयावह थी कि इसकी आवाज से यात्री डरे सहमे रहे तो फैलते आग से उनमें ख़ौफ़ रहा। इस दौरान सभी तार व स्विच बोर्ड जलकर राख हो गए। कर्मचारियों की सूझबूझ से बिजली का कनेक्शन काटा गया। तब कही जाकर आग स्वयं से विद्युत आपूर्ति नही मिलने से उसकी उग्रता कम हुई। इससे बड;ा हादसा होने से बच गया। हालांकि, इस दौरान अफरातफरी मची रही।

जानकारी के अनुसार 1 नम्बर प्लेटफार्म में सामान्य दिन की तरह हर गतिविधि चल रही थी इस बीच सुबह 6 :30 बजे के करीब प्लेटफार्म में पैनल केबिन में विद्युत सप्लाई के लिए स्विच बोर्ड लगा हुआ है । स्विच बोर्ड जर्जर हो गया है। बिजली विभाग के अधिकारी ने स्विच बोर्ड को बदलने में दिलचस्पी नहीं ली और रेल प्रबंधन ने भी कोई ठोस कदम उटाया। वही आज अचानक स्विच बोर्ड में आग लगने से पूरा बोर्ड जलकर राख होने के बाद बिजली विभाग व रेलवे विभाग की नींद टूटी। तब तक आग से कई बोर्ड व तार जलकर राख हो गया। करीब यह आग आधा घंटा तक तार जलता रहा। पूरा स्टेशन व प्लेटफार्म धुएं से भर गया।बताया जा रहा है कि बिजली विभाग के कर्मियों के आने में विलंब पर स्टेशन व रेलवे विभाग के इलेक्ट्रिक विभाग के कर्मचारियों ने कनेक्शन काट कर आग पर काबू पाया। ततपश्चात पूरे घटना की जानकारी मंडल के वरिष्ट अधिकारी और कंट्रोल को सूचना दे दी गई है।

गर्मी शुरु होने से पहले ही लगने लगी आग

देखा जाए तो वर्तमान में भी ठंड का मौसम है लेकिन रायगढ; शहर व ग्रामीण अंचल में लगाना शॉर्ट सर्कटि व अन्य कारणों से आगजनी की घटना सामने आ रही है जिसमें शहर में डेढ; माह पहले लाल टंकी चौक मुरारी होटल के गोदाम में एवं इसी माह इसी क्षेत्र के बीड़पारा इलाके में बहुमंजिला इमारत पर आग लग गई थी । दमकल विभाग के कर्मचारियों ने उपकार को काफी मशक्कत करने के बाद काबू पाया है वही रायगढ़ से अलग हुए सारंगढ़ में भी इसकी माह आगजनी की बड़ी घटना सामने आ चुकी है।

दमकल को रहना होगा चौकन्नाा

आगजनी की घटना साल के शुरुआत से लगातार घटना सामने आ रही है ऐसे में विभाग को चुस्त-दुरुस्त रहने की दरकार है। इसके अलावा दमकल से संबंधित सभी उपकरणों को भी सुरक्षा पैमाने पर बेहतर रखना होगा ताकि आगे की घटना जब घटित होती है तो किसी तरह उस पर तत्काल काबू पाया जा सके। और जनहानी के अलावा आर्थिक नुकसान को रोका जा सके।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close